यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

योगी सरकार का बड़ा फैसला, अब नहीं होंगे टेंडर, आंगनबाड़ी केंद्रों में महिलाएं बांटेंगी पोषाहार


🗒 मंगलवार, सितंबर 29 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
योगी सरकार का बड़ा फैसला, अब नहीं होंगे टेंडर, आंगनबाड़ी केंद्रों में महिलाएं बांटेंगी पोषाहार

उत्तर प्रदेश सरकार ने आंगनबाड़ी केंद्रों में वितरित होने वाले पोषाहार में बड़ा फैसला लिया है। अब सभी 75 जिलों में पोषाहार का उत्पादन और वितरण स्वयं सहायता समूह की महिलाएं करेंगी। स्थानीय स्तर पर रोजगार को बढ़ावा देने के लिए योगी सरकार ने पोषाहार उत्पादन व वितरण के लिए टेंडर न करने का फैसला किया है। आंगनबाड़ी केंद्रों के लिए हर साल पोषाहार की करीब चार हजार करोड़ रुपये की खरीद होती है। अब यह काम उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के माध्यम से स्वयं समहायता समूहों की महिलाओं को दिया जाएगा।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में इस महत्वपूर्ण प्रस्ताव पर मुहर लग गई। प्रदेश सरकार ने पहले केवल 18 जिलों में स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को पुष्टाहार उत्पादन व वितरण का काम दिया था। बाकी जिलों के लिए टेंडर आमंत्रित किए गए थे। टेेंडर में बहुत कम कंपनियों ने हिस्सा लिया। इस कारण पोषाहार की दरें काफी अधिक आईं। सरकार ने पोषाहार की दरों को देखते हुए अब यह काम सभी जिलों में प्रदेश की स्थानीय स्तर की महिलाओं के समूहों को सौंप दिया है। आजीविका मिशन की 23 हजार महिला स्वयं सहायता समूह प्रदेश भर के आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषाहार का उत्पादन कर वितरण करेंगे।सरकार के इस फैसले से उन बड़े कारोबारियों को धक्का लगा है जो हजारों करोड़ रुपये के पोषाहार उत्पादन व वितरण में वर्षों से लगे थे। आए दिन पोषाहार वितरण में घपले व घोटाले की भी शिकायतें मिलती रहती थीं।सरकार के नए फैसले से स्थानीय स्तर पर महिलाएं उद्यमी बनेंगी और उन्हें स्थायी रोजगार मिल सकेगा।दो साल बंटेगा कच्चा राशन : उत्तर प्रदेश के सभी जिलों की आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषाहार उत्पादन व वितरण के काम में महिला स्वयं सहायता समूहों को दो साल लग जाएंगे। ऐसे में शुरुआती दो साल आंगनबाड़ी केंद्रों की महिलाओं को कच्चा राशन गेहूं, दाल, चावल, घी व मिल्क पाउडर दिया जाएगा। गेहूं व चावल सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से लिया जाएगगा जबकि दाल की खरीद स्वयं सहायता समूह स्थानीय स्तर पर खुद करेंगी। देसी घी व मिल्क पाउडर की सप्लाई प्रादेशिक कोआपरेटिव डेयरी फेडरेशन (पीसीडीएफ) करेगा। इसके लिए इन दोनों से बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग का समझौता हो गया है। स्वयं सहायता समूह की महिलाएं प्रत्येक लाभार्थी को देने के लिए राशन, घी व दूध पाउडर का वजन करके अलग-अलग पैकिंग करेंगी। राशन का वितरण महीने में एक या दो दिन पारदर्शी तरीके से जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी में होगा। दो साल में चरणबद्ध तरीके से पूरे प्रदेश में महिला स्वयं सहायता समूह पोषाहार का उत्पादन कर वितरण करेगा।उत्तर प्रदेश सरकार कच्चा राशन के साथ ही रेसिपी बुक भी वितरित करेगी। इसमें पोषक व्यंजन बनाने की विधियां दी जाएंगी। महिलाएं अपने घरों में साफ-सुथरे तरीके से पोषाहार कैसे तैयार करें इसका प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ में कैब चालक ने की महिला से अभद्रता, पुलिस ने किया गिरफ्तार

» पुरोहित की पत्नी हत्याकांड में दो संदिग्ध हिरासत में, जल्द राजफाश का दावा

» लखनऊ में पांच चोर गिरफ्तार ,15 से 20 हजार में कर देते थे नई बाइक का सौदा

» महिला उत्पीड़न की घटनाओं पर राज्य महिला आयोग सख्त, सभी जगहों की तलब की रिपोर्ट

» राजधानी पुलिस ने कोर्ट परिसर में सुरक्षा में तैनात किए गए एक हजार पुलिसकर्मी

 

नवीन समाचार व लेख

» औरैया मे राशन दुकान चयन से भड़के ग्रामीणों ने एसडीएम को घेरा,

» ड्रग्स माफिया सत्येंद्र भी गिरफ्तार, उड़ीसा और दूसरे राज्‍यों से लाता था माल

» इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दुर्गा पूजा के आयोजन पर जिलाधिकारी को विचार करने का दिया निर्देश

» बुलंदशहर मे केबल आपरेटर की चाकुओं से गोदकर हत्या

» हरदोई में संदिग्ध पर‍िस्‍थ‍ित‍ियों में युवक की मौत, भाई ने भी खेत में फांसी लगाकर दे दी जान