यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराधों में पुलिस भी हिस्सेदार - अखिलेश यादव


🗒 सोमवार, अक्टूबर 05 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराधों में पुलिस भी हिस्सेदार - अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश के हाथरस के बूलगढ़ी गांव में पीड़िता के परिवारीजन से मिलने के बाद समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने रविवार को अपनी रिपोर्ट पार्टी मुख्यालय में सौंपी। सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने बताया कि पीड़िता का परिवार सरकारी रवैये से असंतुष्ट हैं और सुप्रीम कोर्ट के जज से इस कांड की जांच कराना चाहते हैं। वहीं, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रविवार को जारी बयान में कानून व्यवस्था के मुद्दे पर फिर यूपी सरकार पर निशाना साधा है।सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश के हर शहर व गांव में अपराधों की भरमार है और पुलिस भी उसमें हिस्सेदार है। ऐसे में बेहाल जनता कहां जाए? उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के रवैये से जनता का विश्वास उठ गया है। हाथरस के अलावा बलरामपुर, बागपत, मेरठ, फतेहपुर, अलीगढ़, उन्नाव, लखीमपुर खीरी, महाराजगंज, मथुरा, झांसी, भदोही, लखनऊ, आजमगढ़, बुलंदशहर, प्रयागराज, सोनभद्र, रायबरेली और चंदौली आदि जिलों से भी महिलाओं व बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटनाएं होने की खबरें आ रही हैं।सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री के गृह जिले गोरखपुर में पिछले दिनों छह बेटियां खुदकुशी कर चुकी हैं। भाजपा का 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' नारा और मुख्यमंत्री की अपराधियों को दी जा रही थोथी धमकियां जनता के जख्मों पर नमक छिड़कने जैसी लगती हैं। उन्होंने कहा कि महोबा-हाथरस की घटनाओं से लगता है प्रदेश में डीएम-एसपी के नए गैंग को जन्म दे दिया है। अपराधी और पुलिस का भी गठबंधन होने लगा है। मुख्यमंत्री का उन पर कोई नियंत्रण नहीं रह गया है।सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि हाथरस कांड में भाजपा सरकार की लीपापोती नीति के विरुद्ध प्रदेश में जनाक्रोश थम नहीं रहा है। इससे डर कर और अपना कृत्य छुपाने के लिए कुछ अधिकारियों को हटा जरूर दिया गया है लेकिन न्याय की मांग है कि उन पर एफआइआर भी दर्ज हो। साथ ही इनसे यह सच उगलवाया जा सके कि किसके दबाव में उन्होंने आतंक फैलाया, रात में परंपरा के विपरीत दलित युवती का शव क्यों जला दिया। पीड़ित परिवार को बंधक बनाकर क्यों रखा गया। मीडिया व विपक्षी सांसदों तक से क्यों दुर्व्यवहार किया गया। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» पीएम आवास में प्लाट दिलाने के नाम पर करोड़ों डकारे -गिरफ्तार; तीन अन्‍य की तलाश

» सचिवालय में नौकरी चाहिए तो कैश तैयार रखो...ऊंची पहुंच बताकर ऐंठे तीन लाख से ज्‍यादा

» बिकरू कांड में एसआइटी की सिफारिश पर ED करेगी विकास की 150 करोड़ की संपत्ति की जांच

» यूपी में कोरोना काल में पैरोल पर छोड़े गए 1367 सजायाफ्ता बंदी नहीं लौटे जेल, अब तलाश में जुटी पुलिस

» यूपी में भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस का बढ़ा दायरा, दस माह में पुलिसकर्मियों पर भ्रष्टाचार के 42 मुकदमे

 

नवीन समाचार व लेख

» बहराइच में बहू ने सास पर पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया ; हालत गंभीर

» पीएम आवास में प्लाट दिलाने के नाम पर करोड़ों डकारे -गिरफ्तार; तीन अन्‍य की तलाश

» श्रावस्ती में बाइक सवार दंपती समेत तीन की मौत, उछल कर 3KM दूर गिरी बेटी-सुरक्षित

» कानपुर के गंगा बैराज में मछलियां पकडऩे के लिए युवक लगा रहे जान की बाजी, इंटरनेट मीडिया पर वीडियो वायरल

» अश्‍लील वीड़ियो बनाकर करते थे ब्लैकमेल, तीन गिरफ्तार