यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अखिलेश यादव व अजय कुमार लल्लू का मिशन शक्ति पर तंज, बोले-एक और नया जुमला


🗒 शनिवार, अक्टूबर 17 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अखिलेश यादव व अजय कुमार लल्लू का मिशन शक्ति पर तंज, बोले-एक और नया जुमला

लखनऊ,राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को उत्तर प्रदेश में मिशन शक्ति अभियान की शुरुआत की। नवरात्रि के पहले दिन इसकी शुरुआत महिला के खिलाफ अपराध पर अंकुश लगाने के लिए की गई है। सरकार के इस अभियान पर विपक्ष ने तंज कसा है। समाजवादी पार्टी ने कहा है कि इसका हाल भी रोमियो स्वायड की तरह होगा जबकि कांग्रेस ने इसको एक नया जुमला बताया है।समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि इसका भी रोमियो स्कवॉड की तरह ही हश्र होगा। अखिलेश यादव ने प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के मिशन शक्ति पर तंज कसा है। अखिलेश ने कहा कि रोमियो स्क्वाड लापता है। ऐसा ही हश्र मिशन शक्ति का भी होना है। अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार में बेटियों का सम्मान पूर्वक जीना दुश्वार है। प्रदेश में आए दिन उनके साथ होने वाली दुष्कर्म की घटनाओं पर कोई रोक नहीं लग रही है।मुख्यमंत्री ने जैसे-तैसे साढ़े तीन वर्ष से ऊपर का समय पूरा कर लिया है। उनके अपराध के प्रति जीरो टॉलरेंस का दावा एक बड़े जीरो में बदल गया है। उनका रोमियो स्क्वॉड लापता है, अब चलते-चलाते मुख्यमंत्री रोल मॉडल चुनने का कथित मिशन शक्ति अभियान चलाने जा रहे हैं। इसका हश्र भी वही होना है जो अब तक उनके वादो-निर्देशों-आदेशों का होता रहा है। उन्होंने कहा कि आखिर कितने हाथरस, बलिया, झांसी, बलरामपुर व बाराबंकी काण्ड दोहराए जाएंगे। इन सभी काण्डों में बच्चियों से दुष्कर्म के मामलों में पुलिस और प्रशासन की लीपापोती की ही नीति रही है। बच्चियों से बर्बरतापूर्ण कृत्य अमानवीयता की हद, निंदनीय और शर्मनाक हैं।उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने मिशन शक्ति को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ को निशाने पर लिया है। उन्होंने कहा कि यह तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का एक खयाली पुलाव है। फिलहाल तो वह अभी फोटो शूट कराने में व्यस्त हैं। उन्होंने कहा कि यूपी का जो हालात बना दिए गए हैं, उसमें बेटियां कैसे सुरक्षित रहेंगी। उन्होंंने आरोप लगाया कि महिला सुरक्षा के अभियान केवल पोस्टरबाजी और ब्रांडिंग तक ही सीमित है। अब इस सरकार में न बेटियां, न महिलाएं और न ही आम जन सुरक्षित हैं। यूपी में जंगलराज है। यूपी में आज पूरा भय का वातावरण है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» शेखना घाट मेले से लौट रहे दंपति की कंटेनर की टक्कर से हुई मौत

» विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला संचालक गिरफ्तार

» अमृत महोत्सव में ब्लॉक मंडल अध्यक्ष ने तिरंगा यात्रा निकाली

» शाइन सिटी का सह निदेशक आसिफ तीन दिन की पुलिस रिमांड पर

» तीन कृषि कानूनों का वापस लेने का निर्णय किसानों के सम्मान में