यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बसपा विधानमंडल दल नेता लालजी वर्मा ने कहा- हस्ताक्षर असली, झूठ बोल रहे हैं विधायक


🗒 बुधवार, अक्टूबर 28 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बसपा विधानमंडल दल नेता लालजी वर्मा ने कहा- हस्ताक्षर असली, झूठ बोल रहे हैं विधायक

लखनऊ, उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी के विधायकों ने बदावत का बिगुल फूंक दिया है। इसके चलते पार्टी के राज्यसभा उम्मीदवार रामजी गौतम का पर्चा खारिज भी हो सकता है। पार्टी के पांच विधायकों ने निर्वाचन अधिकारी से कहा है कि उन्होंने प्रस्तावक के लिए हस्ताक्षर नहीं किए हैं। उनके फर्जी हस्ताक्षर बनाए गए हैं। इस पर बसपा विधानमंडल दल नेता लालजी वर्मा ने हलफनामा दाखिल कर कहा है कि विधायक झूठ बोल रहे हैं। सभी ने हस्ताक्षर किए हैं।बहुजन समाज पार्टी के विधायकों ने अपने ही प्रत्याशी के खिलाफ बगावत कर दी है। विधायकों ने प्रस्तावक से अपना नाम वापस लेने की बात कही है। इसके साथ ही अब राज्यसभा चुनाव निर्विरोध संपन्न हो सकता है। बसपा के विधायक असलम राईनी, हकीम लाल बिंद, हरि गोविंद भार्गव, मुस्तफा सिद्दीकी और असलम अली ने बगावत की है। इन्होंने बसपा प्रत्याशी रामजी गौतम का विरोध जताया और बीजेपी से साठगांठ का आरोप लगाया है।बता दें कि भाजपा की तरफ से केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर उम्मीदवार हैं। इसके साथ ही भाजपा ने हरद्वार दुबे और पूर्व विधायक डॉ सीमा द्विवेदी को ब्राह्मण चेहरे के रूप में शामिल किया है। पिछड़ी जाति से आने वाले दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री बीएल वर्मा और डॉ. गीता शाक्य ने भी बीजेपी से अपना नामांकन दाखिल किया है।राज्यसभा चुनाव में बीजेपी अपनी आठ सीटों पर आसानी से जीत दर्ज कर सकती है, जबकि समाजवादी पार्टी के पास भी जीतने का मौका है, लेकिन बसपा के प्रत्याशी और निर्दलीय उम्मीदवार के बीच मुकाबला हो सकता है और अब बसपा प्रत्याशी के प्रस्तावकों ने जो झटका दिया है, उससे मुश्किल अधिक बढ़ गई है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» जेल में पीएफआइ सदस्योंं से मिलने पहुंचीं चार महिलाओं को पुलिस ने पकड़ा

» सपा-बसपा ने भाजपा पर साधा निशाना

» भारत बंद को लेकर यूपी में अलर्ट, चप्पे-चप्पे पर कड़ी नजर

» मौलाना कलीम के बैंक ट्रांजेक्शन पर एटीएस की निगाह

» नौकरी के पहले दिन ही रेस्‍टोरेंट में वेटर की हत्‍या, पांच हिरासत में