बसपा से निलंबित बागी विधायक हुए एकजुट, बोले- BJP से मिल गई हैं पार्टी अध्यक्ष मायावती

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बसपा से निलंबित बागी विधायक हुए एकजुट, बोले- BJP से मिल गई हैं पार्टी अध्यक्ष मायावती


🗒 गुरुवार, अक्टूबर 29 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बसपा से निलंबित बागी विधायक हुए एकजुट, बोले- BJP से मिल गई हैं पार्टी अध्यक्ष मायावती

लखनऊ, राज्यसभा चुनाव के लिए बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी रामजी गौतम के प्रकरण में उठापटक के बाद पार्टी की मुखिया मायावती ने सात विधायकों को निलंबित कर दिया है। सभी सात निलंबित विधायक अब एकजुट हो गए हैं। इन सात विधायकों ने बसपा मुखिया मायावती पर बेहद गंभीर आरोप जड़ा है।कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के मायावती के खिलाफ ट्वीट के बाद निलंबित विधायकों ने आरोप लगाया है कि बसपा मुखिया मायावती भारतीय जनता पार्टी से मिल गई हैं। जब हम लोगों ने विरोध किया तो हमारे खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की गई है। श्रावस्ती के भिनगा से विधायक असलम राइनी ने कहा कि बहन जी के इस फैसले का हम स्वागत करते हैं। अब हम अपना हित तलाशने के लिए स्वतंत्र हैं। असलम राइनी ने कहा कि मायावती तो भारतीय जनता पार्टी से मिल गईं हैं। मैनें इस गठबंधन का विरोध किया। इसी विरोध की वजह से मायावती ने निकाला। उन्होंने कहा कि मैं बसपा का पुराना कार्यकर्ता रहा हूं। मैं बसपा में था और रहूंगा। प्रयागराज के हंडिया से विधायक हाकिम लाल बिंद ने कहा कि हमने पार्टी की मुखिया के भाजपा से मिलने का हमने विरोध किया। हमारे ऊपर आरोप है कि हम अखिलेश यादव से मिले हैं, लेकिन हमने कोई मुलाकात नहीं की। सीतापुर के सिधौली से विधायक हरगोविंद भार्गव ने कहा कि मैं तो बुधवार को लखनऊ में था ही नहीं। मैं बसपा का विधायक बना रहूंगा और पार्टी की मुखिया के फैसले को चुनौती दूंगा। बसपा के बागी विधायकों का कहना है कि उनकी बसपा नेताओं के साथ बैठक होनी है और इसके बाद यह तय होगा कि आगे क्या किया जाना है।कल तक बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाने वाले ये बागी विधायक जहां सपा मुखिया से उनकी मुलाकात को अफवाह करार दे रहे हैं तो वहीं बसपा सुप्रीमो को अपना नेता और स्वयं को बसपा का विधायक बता रहे हैं। बागी विधायकों का कहना है कि बसपा सुप्रीमों मायावती हम सबकी नेता है, उन्होंने हमे पार्टी से निलंबित किया है हम लोग बहुजन समाज पार्टी के विधायक कल भी थे और आज भी है, हम पार्टी छोड़ने का काम नहीं करेंगे। बागी विधायकों ने सपा मुखिया से मुलाकात की बात को भी सिरे से नकारते हुए कहा कि यह सभी बाते अफवाह हैं।बसपा विधायक दल के नेता लालजी वर्मा ने बसपा के राज्यसभा सदस्य प्रत्याशी के खिलाफ प्रस्तावकों के नाम वापस लेने की मामले के साथ ही इन सभी के अखिलेश यादव ने भेंट करने की अपनी रिपोर्ट मायावती को सौंपी थी। रिपोर्ट में कहा गया था कि सात विधायकों असमल चौधरी, असलम राइनी, मोहम्मद मुज्तबा सिद्दीकी, हाकिल लाल बिंद, हरगोविंद भार्गव, सुषमा पटेल और वंदना सिंह ने पार्टी के खिलाफ बगावत करते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की थी। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» कांग्रेस समेत कई दलों के नेता समाजवादी पार्टी में शामिल

» श्रीराम के जयकारे के साथ लखनऊ के ऐशबाग में जला रावण

» मौलाना कलीम के खातों की पड़ताल तेज

» एसआइटी टीम पड़ताल करने लखनऊ पहुंची

» एसआइटी को आरोपित अंकित दास के फ्लैट में मिली रिपीटर गन तथा पिस्टल