यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यूपी में माहौल बिगाड़ने की साजिश के आरोपितों से आमने-सामने पूछताछ करेगी STF


🗒 शनिवार, अक्टूबर 31 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
यूपी में माहौल बिगाड़ने की साजिश के आरोपितों से आमने-सामने पूछताछ करेगी STF

लखनऊ ,स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) हाथरस कांड में जातीय व सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ने की साजिश के मामले में शुरुआती छानबीन के बाद अब मथुरा में पकड़े गए कैंपस फ्रंट आफ इंडिया के चारों सदस्यों से सीधे आमने-सामने पूछताछ की तैयारी कर रही है। सूत्रों का कहना है कि एसटीएफ चारों आरोपितों को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए सोमवार को मथुरा कोर्ट में अर्जी दाखिल करेगी।एसटीएफ प्रकरण में खासकर हाथरस, अलीगढ़ व मथुरा में दर्ज चार मुकदमों पर फोकस कर रही है। इन सभी मुकदमों से जुड़े दस्तावेज जुटाने के बाद एसटीएफ अब कुछ संगठनों की भूूमिका की छानबीन में जुटी है। एसटीएफ मथुरा जेल में निरुद्ध कैंपस फ्रंट आफ इंडिया के चार सदस्यों से पूछताछ करने से पहले उनसे जुड़ी सभी सूचनाएं जुटाने में लगी है। पापुलर फ्रंट आफ इंडिया के कई सदस्यों के बारे में भी जानकारियां जुटाई गई हैं। हाथरस में दर्ज कराए गए माहौल बिगाड़ने की साजिश व देशद्रोह से जुड़े दो मुकदमों का पूरा ब्योरा लेने के बाद एसटीएफ ने उनसे जुड़े आरोपितों पर निगाहें गड़ा दी हैं।सूत्रों का कहना है कि एटीएफ को इंटरनेट मीडिया के कई अकाउंट की छानबीन के दौरान अहम जानकारियां मिली हैं। इनके आधार पर ही कैंपस फ्रंट आफ इंडिया के चारों सदस्यों से पूछताछ की तैयारी है। हालांकि माहौल बिगाड़ने की साजिश के पीछे विदेशों से फंडिंग के बारे में अभी पुलिस के हाथ कोई पुख्ता सुराग नहीं लग सके हैं। एसटीएफ ने फंडिंग की तह तक पहुंचने के लिए कई संदिग्धों के बारे में छानबीन शुरू की है।बता दें कि उत्तर प्रदेश हाथरस कांड की आड़ में जातीय व सांप्रदायिक संघर्ष की साजिश की छानबीन अब स्पेशल टास्क फोर्स कर रही है। जांच के दायरे में वेबसाइट के जरिये सुनियोजित ढंग से माहौल बिगाड़ने की साजिश से लेकर पापुलर फ्रंट आफ इंडिया (पीएफआइ) व उसकी स्टूडेंट विंग कैंपस फ्रंट आफ इंडिया की भूमिका भी होगी। शासन के निर्देश पर एसटीएफ की एक विशेष टीम गठित कर उसे यह जिम्मेदारी सौंपी गई है। वेबसाइट के जरिए विदेश से फंडिंग की परतें भी एसटीएफ खंगाल रही है।बता दें कि उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में युवती की मौत मामले में सोशल मीडिया पर एक न्यूज चैनल का फर्जी स्क्रीन शॉट तैयार कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सरकार को बदनाम करने की साजिश का सनसनीखेज मामला सामने आया है। स्क्रीन शॉट में ब्रेकिंग न्यूज लिखकर मुख्यमंत्री की फोटो के साथ बाकायदा उनका फर्जी बयान जारी किया गया

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» कांग्रेस समेत कई दलों के नेता समाजवादी पार्टी में शामिल

» श्रीराम के जयकारे के साथ लखनऊ के ऐशबाग में जला रावण

» मौलाना कलीम के खातों की पड़ताल तेज

» एसआइटी टीम पड़ताल करने लखनऊ पहुंची

» एसआइटी को आरोपित अंकित दास के फ्लैट में मिली रिपीटर गन तथा पिस्टल