यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में फैसला सुरक्षित, हाई कोर्ट के आदेश को दी गई है चुनौती


🗒 बुधवार, नवंबर 18 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में फैसला सुरक्षित, हाई कोर्ट के आदेश को दी गई है चुनौती

लखनऊ, सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश में वाराणसी निर्वाचन क्षेत्र से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव के खिलाफ बीएसएफ के बर्खास्त सिपाही तेज बहादुर यादव की याचिका पर अपना आदेश सुरक्षित कर लिया है। तेज बहादुर ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। इलाहाबाद हाई कोर्ट का मानना था कि तेज बहादुर न तो वाराणसी के वोटर हैं और न ही प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ उम्मीदवार थे। इस आधार पर उसका इलेक्शन पिटीशन दाखिल करने का कोई औचित्य नहीं बनता है।बता दें कि उत्तर प्रदेश के वाराणसी में 19 मई, 2019 को लोकसभा चुनाव होना था। तेज बहादुर यादव ने 29 अप्रैल को समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन दाखिल किया था, इसे एक मई को रिटर्निंग अफसर ने इस आधार पर खारिज कर दिया कि उसे 19 अप्रैल, 2017 को सरकारी सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था। तेज बहादुर से कहा गया था कि वह बीएसएफ से इस बात का अनापत्ति प्रमाणपत्र पेश करें जिसमें उनकी बर्खास्तगी के कारण दिए हों, लेकिन वह निर्धारित समय में आवश्यक दस्तावेजों को प्रस्तुत नहीं कर सके।तेज बहादुर यादव ने कहना है कि उन्होंने नामांकन पत्र के साथ अपने बर्खास्तगी का आदेश दिया था जिसमें साफ था कि उसे अनुशासनहीनता के लिए बर्खास्त किया गया था। याचिका में ये भी कहा गया है कि रिटर्निंग अफसर ने उसे चुनाव आयोग से प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए वाजिब समय भी नहीं दिया।लोकसभा चुनाव के दौरान वाराणसी लोकसभा से नामांकन रद होने के बाद तेज बहादुर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को मामले में उचित निर्णय लेने का आदेश देते हुए याचिका को निस्तारित कर दिया था, जिसके बाद चुनाव आयोग ने इस मामले जांच की और तेज बहादुर के सभी आरोपों को निराधार पाया और इसी आधार पर उनके नामांकन खारिज होने के फैसले को सही माना गया।बता दें कि बीएसएफ में कांस्टेबल रहे तेज बहादुर यादव खाने की खराब क्वालिटी पर सवाल उठाने के बाद चर्चा में आए थे। इसको लेकर एक वीडिये खूब वायरल हुआ था। उन्हें बाद में बीएसएफ से बर्खास्त कर दिया गया था। इसके बाद तेज बहादुर ने वाराणसी लोकसभा क्षेत्र से पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने का निर्णय लिया था। तेज बाहुदर ने पहले निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में वाराणसी से नामांकन किया था, लेकिन बाद में समाजवादी पार्टी ने अपने प्रत्याशी शालिनी यादव का टिकट काटकर उन्हें गठबंधन का उम्मीदवार बना दिया, लेकिन हलफनामे में जानकारी छुपाने का आरोप लगाते हुए चुनाव अधिकारी ने उनका नामांकन रद कर दिया था।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» यूपी सरकार ने छठ पूजा के लिए जारी की गाइडलाइन, घर पर पूजा करने की अपील

» सीएम योगी आदित्यनाथ बोले 'जय छठी मइया', राज्य कर्मियों ने मांगा सार्वजनिक अवकाश

» सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की शिक्षामित्रों की याचिकाएं, 37,339 पदों पर नियुक्ति का रास्ता साफ

» महिला मित्र के खिलाफ मुकदमा, पिता का आरोप- हत्या कर शव गोमती में फेंका

» जहरीली शराब कांड में जिला आबकारी अधिकारी हटाए गए, निरीक्षक निलंबित

 

नवीन समाचार व लेख

» भाजपा पार्षद के आरोप पर भड़के उपनेता, अनुशासनहीनता पर महापौर ने किया छह माह के लिए निष्कासित

» पहचान बदलकर सात माह तक स्टाफ नर्स से दुष्‍कर्म, गर्भवती होने पर दी यातनाएं

» शादी समाराेह से लौटते समय हुआ हादसा, दंपती समेत तीन लोग कार में जिंदा जले

» वाराणसी में वांछित को पकड़ने आई एमपी पुलिस पर हमला, रिवाल्वर भी छीनने का प्रयास

» वाराणसी में तत्‍काल रेल टिकट के साथ हत्थे चढ़े दो एजेंट, रेलवे एक्ट में चालान कर भेजा जेल