कांग्रेस-शिवसेना नेताओं को पेट दर्द - स्वतंत्र देव सिंह

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कांग्रेस-शिवसेना नेताओं को पेट दर्द - स्वतंत्र देव सिंह


🗒 गुरुवार, दिसंबर 03 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
कांग्रेस-शिवसेना नेताओं को पेट दर्द - स्वतंत्र देव सिंह

लखनऊ , उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी स्थापित करने के लिए योगी सरकार की कोशिशों को सराहते हुए भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने विपक्ष खासकर कांग्रेस और शिवसेना इस मुद्दे पर कठघरे में खड़ा किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ नेताओं को फिल्म उद्योग भी एक परिवार की विरासत की तरह लगता है।यूपी बीजेपी के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने गुरुवार को ट्वीट कर उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी की स्थापना को लाखों प्रतिभवान कलाकारों को समर्पित बताया। उन्होंने लिखा कि 'उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी हेतु योगी सरकार के फैसले से कांग्रेस-शिवसेना के नेताओं के पेट में दर्द हो रहा है, उन्हें लगता है कि फिल्म उद्योग भी उनकी राजनीति की तरह एक परिवार की विरासत है। यूपी फिल्म सिटी देश के कोने-कोने में बसने वाले लाखों प्रतिभावान कलाकारों को समर्पित रहेगी।दरअसल, शिवसेना नेताओं की बयानबाजी के साथ ही पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में भी यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मुंबई दौरे का जिक्र किया गया है। कहा गया है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दिल से साधु-महात्मा हैं। इन साधु-महात्मा का मुंबई मायानगरी में आगमन हुआ और वे समुद्र तट पर स्थित ‘ओबेरॉय ट्राइडेंट’ मठ में ठहरे हैं। साधु महाराज का मायानगरी में आने का मूल मकसद ऐसा है कि मुंबई की फिल्म सिटी को उत्तर प्रदेश ले जाया जाए। हम महाराष्ट्र से कुछ भी ले जाने नहीं देंगे।इस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुंबई में ही पत्रकार वार्ता में कहा कि हम कहीं कुछ नहीं ले जा रहे। मुंबई फिल्म सिटी मुंबई में ही काम करेगी, जबकि यूपी में नई फिल्म सिटी को नई आवश्यकताओं के अनुसार एक नए वातावरण में विकसित किया जा रहा है। सीएम योगी ने कहा कि फिल्म उद्योग को मुंबई से बाहर ले जाने का उनका कोई इरादा नहीं है। हम किसी का निवेश नहीं छीन रहे हैं। कोई अपने साथ कुछ नहीं ले जा सकता। यह कोई पर्स नहीं है, जिसे ले जाया सकता है। यह खुली प्रतिस्पर्धा है। जो सुरक्षित माहौल, बेहतर सुविधाएं और विशेष रूप से सामाजिक सुरक्षा दे सकेगा, उसे निवेश प्राप्त होगा।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» यूपी की 75 जिला पंचायतों में घट गए 69 वार्ड, परिसीमन के बाद सूची जारी

» लखनऊ में बेटे के अंतिम संस्कार में गई थी बुजुर्ग महिला, मौका देख दबंगों ने ढहा द‍िया मकान

» UP ATS को बड़ी कामयाबी, फर्जी सिम से ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करने वाले 14 शातिर दबोचे

» मध्‍य प्रदेश में विकास दुबे पर बन रही वेब सीरीज, पत्नी ने भेजा नोटिस

» लखनऊ में आर्मी सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल से एक साथ उड़ सकेंगे छह एयर एंबुलेंस

 

नवीन समाचार व लेख

» भारत के वैक्सीन अभियान की दुनिया भर में चर्चा

» अतिरिक्त दहेज की मांग पर 'न' कहना महिला को पड़ा भारी, तीन तलाक कहकर शौहर ने किया बेघर

» दरवाजे के सामने मौरंग पड़ी होने के विवाद में चले लाठी-डंडे, मां व दो बेटी घायल

» वर्चस्व की जंग में दो गुट भिड़े, पथराव और फायरिंग से मची अफरा-तफरी

» राजनीतिक पद और फेसबुक का दुरुपयोग कर शिकार फंसाता था रामबिहारी