अजीत हत्‍याकांड का आरोपित गिरधारी अब खोलेगा पूर्वांचल के माफिया का राज

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अजीत हत्‍याकांड का आरोपित गिरधारी अब खोलेगा पूर्वांचल के माफिया का राज


🗒 बुधवार, जनवरी 13 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अजीत हत्‍याकांड का आरोपित गिरधारी अब खोलेगा पूर्वांचल के माफिया का राज

लखनऊ, मऊ के ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि व आजमगढ़ के पूर्व विधायक सीपू सिंह के गवाह अजीत सिंह के हत्या मामले के मुख्‍य आरोपित गिरधारी को लखनऊ पुलिस ट्रांजिट रिमांड पर राजधानी लाने की तैयारी कर रही है। गिरधारी से पूछताछ में कई अहम राज खुलने की उम्मीद जताई जा रही है। हत्याकांड में गिरधारी के अलावा और कौन लोग शामिल थे, इसका राज उजागर होगा। माना जा रहा है कि गिरधारी कई सफेदपोश लोगों के नाम सार्वजनिक कर सकता है। यही नहीं पूर्वांचल में चल रहे माफिया गिरोह के बारे में भी गिरधारी बता सकता है।गिरधारी के पकड़े जाने के बाद से पूर्वांचल के माफिया गिरोह में खलबली मची है। वाराणसी में सदर तहसील में हुई नितेश हत्याकांड में भी गिरधारी का नाम सामने आया था। वाराणसी के अलावा एसटीएफ भी गिरधारी की तलाश में थी। गिरधारी के लखनऊ आने के बाद वाराणसी पुलिस भी उससे पूछताछ करेगी। गिरधारी का नाम पूर्वांचल की कई बड़ी घटनाओं में आया था। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश करेगी कि गिरधारी को लखनऊ से भागने में किन लोगों ने मदद की थी। यही नहीं, पूर्व सांसद की हत्याकांड में संलिप्तता के बारे में भी गिरधारी से सवाल किए जाएंगे। हत्याकांड में गिरधारी के अलावा और कौन शूटर शामिल थे, इस बारे में अभी तक पुलिस को कोई जानकारी नहीं मिली है। गिरधारी से पूछताछ के बाद पुलिस अन्य हमलावरों के बारे में सुराग लगाएगी। गौरतलब है कि गिरधारी को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था। आरोपित के पास से अवैध असलहा और कारतूस बरामद किए गए थे।मूलरूप से मऊ के मोहम्मदाबाद गोहना निवासी अजीत सिंह की छह जनवरी को लखनऊ के विभूतिखंड में कठौता चौराहे के बाद गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अजीत बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी थे। हत्यारों ने अजीत को 22 गोलियां मारी थीं। अजीत आजमगढ़ के पूर्व विधायक सर्वेश सिंह की हत्या में गवाह थे। अजीत के साथी मोहर सिंह ने आजमगढ़ जेल में बंद कुंटू सिंह, गिरधारी और अखंड सिंह समेत अन्य के खिलाफ साजिश के तहत हत्या की एफआइआर दर्ज कराई थी।