यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ के थाने में फरियाद लेकर पहुंची घायल महिला, इंस्‍पेक्‍टर साहब बोले- आइए आपका इंतजार था


🗒 सोमवार, फरवरी 22 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
लखनऊ के थाने में फरियाद लेकर पहुंची घायल महिला, इंस्‍पेक्‍टर साहब बोले- आइए आपका इंतजार था

लखनऊ,। ससुरालीजनों की पिटाई और दहेज प्रताडऩा से त्रस्त विवाहिता रेनू सोमवार दोपहर लडख़ड़ाते हुए अपनी फरियाद लेकर मोहनलालगंज कोतवाली पहुंची। आरोप है कि यहां इंस्पेक्टर दीनानाथ मिश्रा से महिला ने शिकायत की तो उन्होंने महिला को पहले गाना सुनाया (आइए आपका इंतजार था, देर हुई आने में तुमको, शुक्र है कि जो आए तो) और पूछा कि यह किस फिल्म का गाना है। हालात की मारी महिला फूट-फूट कर रोने लगी। इसके बाद उल्टे पांव लौट गई।दोपहर बाद इंटरनेट मीडिया पर वीडियो वायरल हुआ तो पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया। आलाधिकारियों ने इंस्पेक्टर को जमकर फटकार लगाई। इसके बाद पीडि़ता की तहरीर पर उसके पति समेत अन्य ससुरालीजनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। मामले में इंस्पेक्टर दीनानाथ मिश्रा ने बताया कि रेनू के आरोप निराधार हैं। उसे कोई गाना नहीं सुनाया गया। तहरीर के आधार पर उसके पति राहुल, ससुर महेश, सास और दो ननद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की जा रही है। पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने डीसीपी साउथ रवि कुमार को मामले की जांच के आदेश दिए हैं। दो दिन के अंदर वह अपनी रिपोर्ट देंगे। उसके आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।पीडि़ता रेनू के मुताबिक वह मोहनलालगंज के बिल्हानी गौरा की रहने वाली है। बीते 26 जून को उसका विवाह कल्ली पूरब निवासी राहुल के साथ हुआ था। शादी के बाद से दहेज की मांग को लेकर अक्सर पति, ससुर महेश, ननद पूनम, चांदनी और सास आए दिन मारपीट करते रहते थे। बीती 19 फरवरी को सबने जमकर पीटा और फिर छत से धक्का देकर गिरा दिया। मामले की जानकारी पुलिस कंट्रोल रूम को दी गई थी। पुलिस पहुंची समझा-बुझाकर वापस लौट गई। इसके बाद गिरने से गंभीर चोट आ गई थी। जिसके कारण अस्पताल में रही। आराम मिलने पर लडख़ड़ाते हुए सोमवार को शिकायत लेकर थाने पहुंची। इस पर इंस्पेक्टर साहब गाना सुनाने लगे और फिल्म का नाम पूछा। बिना कार्यवाही के ही लौटा दिया।पीडि़ता रेनू ने बताया कि जब वह थाने पहुंची तो इंस्पेक्टर को उसने अपना हाथ दिखाया और कहा कि ससुरालीजन चाकू से हाथ पर वार भी करते थे। आए दिन मारपीट करते हैं। पीडि़ता का आरोप है कि इस पर इंस्पेक्टर ने कहा कि क्यों थोड़ी थोड़ी चाकू उन्होंने हाथ पर मारी सीधे पेट पर क्यों नहीं मार दी। उन्हें तुम्हारे पेट में चाकू मारनी चाहिए थी।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» कुख्‍यात अपराधी गिरधारी के एनकाउंटर पर उठे सवाल, पुलिसकर्मियों पर हत्‍या कर मुठभेड़ की शक्‍ल देने का आरोप

» होमगार्ड विभाग को मिले 25 करोड़, मृत्यु और अपंगता पर परिवार को मिलेंगे पांच लाख

» लखनऊ के पारा कोतवाली के पूर्व इंस्पेक्टर रणजीत सिंह भदौरिया पर साक्ष्य मिटाने का मुकदमा दर्ज

» लखनऊ में नसीमुद्दीन व राजभर समेत पांच पर पाक्सो में भी चार्जशीट

» यूपी में क्षेत्रीय असमानता की खाई पाटते दिखेंगी चारों एक्सप्रेस-वे परियोजनाएं

 

नवीन समाचार व लेख

» तीन दिन से लापता वैन चालक का शव रूरा नहर में मिला, पुलिस ने तीन को हिरासत में लिया

» कन्नौज में पेशी के लिए कोर्ट जा रहे गैंगस्टर की दिनदहाड़े हत्या, बीच सड़क पर सीने में मारी गई गोली

» कानपुर के बिल्हौर में डीसीएम की टक्कर से ट्रैक्टर टॉली पलटी,तीन मासूमों की माैत, दर्जनों घायल

» कागज के टुकड़े थमा कर युवक से ठगे 45 हजार रुपये

» अलीगढ़ में एसएसपी के पास शिकायत लेकर पहुंची महिला ने जहर खाया