श्रीराम मंदिर के लिए लखनऊ में दवा व्यवसायियों ने भेट किए साढ़े 19 लाख

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

श्रीराम मंदिर के लिए लखनऊ में दवा व्यवसायियों ने भेट किए साढ़े 19 लाख


🗒 शनिवार, फरवरी 27 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
श्रीराम मंदिर के लिए लखनऊ में दवा व्यवसायियों ने भेट किए साढ़े 19 लाख

लखनऊ,। रामनगरी अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए विश्व हिंदू परिषद के राम मंदिर निधि समर्पण अभियान का समापन संत रविदास जयंती पर हुआ। शनिवार को लखनऊ के अमीनाबाद में दवा व्यवसायियों ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को 19 लाख 56 हजार 106 रुपए की धनराशि मंदिर के निर्माण के लिए भेंट की। 44 दिन चले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान के अंतिम दिन चंपत राय ने कहा कि दाता (श्रीराम) को देना ठीक नहीं, यह समर्पण भाव है। यह मंदिर किसी व्यक्ति का नहीं या राष्ट्र मंदिर है, जो सबकी समर्पण निधि से मिलकर तैयार किया जा रहा है। इस मौके पर विधि एवं न्याय मंत्री बृजेश पाठक की मौजूद रहे। चंपत राय ने कहा कि  स्वतंत्र भारत की कानूनी लड़ाई के बाद आज राष्ट्र के लोगों के समक्ष यह मौका आया है कि भगवान श्रीराम का यह राष्ट्र मंदिर तैयार हो रहा है। बड़ी आसानी से लोग इसे आस्था की जीत कह देते हैं, वास्तव में लंबी लड़ाई के बाद तकनीकी साक्ष्यों के साथ जीत हासिल हुई है। स्वतंत्र भारत में 70 साल की न्यायिक लड़ाई के बाद यह मौका आया है।दवा व्यवसायी द्वारा भेंट की गई धन राशि पर उन्होंने कहा कि यह 270 लोगों नहीं, 270 परिवारों की ओर से मिली भेंट है। अगर जोड़ा जाए तो कम से कम 11 सौ से अधिक लोगों का समर्पण भाव इसमें दिखता है। इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष अनिल जय सिंह, महामंत्री ओपी सिंह, सीनियर वाइस प्रेसिडेंट सुदीप दुबे, ऑर्गेनाइजिंग सेक्रेट्री सीएम दुबे के अलावा विश्व हिंदू परिषद के प्रांतीय संगठन मंत्री राजेश उपाध्यक्ष, कन्हैया नगीना स्वयं मंत्री देवेंद्र समेत सैकड़ों की तादाद में दवा व्यवसायी मौजूद रहे।बता दें, राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति तथा कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी इसमें अपना योगदान दिया। श्री राम मंदिर के लिए दुनिया का सबसे बड़ा फंड कलेक्शन अभियान संत रविदास जयंती यानी शनिवार 27 फरवरी को पूर्ण हो गया।  यह अभियान 15 जनवरी मकर संक्रांति के दिन शुरू होकर माघी पूर्णिमा पर समाप्त हुआ है। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» नकली रेमेडिसिवर इंजेक्शन के साथ लैब टेक्निशियन व स्टाफ नर्स के साथ मेडिकल के दो छात्र

» सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मैं उपलब्ध नहीं है ऑक्सीजन

» लखनऊ के सिविल अस्पताल में ऑक्सीजन सिलिंडर लूटने की कोशिश नाकाम, पुलिस बल तैनात

» हर हाल में ऑक्सीजन की कालाबाजारी रोकी जाए - CM योगी

» लखनऊ में शादी के बाद नकदी और जेवर समेट कर लुटेरी दुल्हन फरार, मामला दर्ज

 

नवीन समाचार व लेख

» सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मैं उपलब्ध नहीं है ऑक्सीजन

» रायबरेली फिर से घोरवारा में शुरू हुआ कालाबाजारी लॉकडाउन के नाम पर फिर महंगा हुआ जर्दा व पान मसाला

» रायबरेली एम्स में कोविड मरीजों के इलाज के लिए जल्द ही 50 बेड का एल -3 अस्पताल चालू होगा

» 31 अस्पतालों में एयर सैपरेटर लगाने के निर्देश

» ट्रामा सेण्टर में 140 व कैंसर अस्पताल में शीघ्र ही 100 बेड से ऊपर की छमता