यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

राष्ट्रीय राजमार्ग जैसा होगा अयोध्या का 84 कोसी परिक्रमा मार्ग, राजनाथ सिंह के आग्रह पर नितिन गडकरी का आश्वासन


🗒 शुक्रवार, अप्रैल 02 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
राष्ट्रीय राजमार्ग जैसा होगा अयोध्या का 84 कोसी परिक्रमा मार्ग, राजनाथ सिंह के आग्रह पर नितिन गडकरी का आश्वासन

लखनऊ। अयोध्या के 84 कोसी परिक्रमा मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग जैसा बनाया जाएगा। शुक्रवार को लखनऊ में विकास कार्यों के लोकार्पण समारोह में केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इसी आयोजन में मौजूद केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से अयोध्या के 84 कोसी परिक्रमा मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग जैसा दर्जा देने की मांग की। गडकरी ने उनके अनुरोध को स्वीकार करते हुए परिक्रमा मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग जैसा ही बनाने का आश्वासन दिया।राजनाथ सिंह ने कहा कि लखनऊ में जिस तेज गति से बुनियादी ढांचे का विकास हो रहा है, उससे यह कुछ ही वर्षों में देश के तीन शीर्ष शहरों में जाना जाएगा। शुक्रवार को केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ रक्षा मंत्री ने राजधानी को 280 करोड़ रुपये लागत की दो परियोजनाओं की सौगात दी।राजनाथ ने लखनऊ के सांसद के तौर पर राजधानी के विकास का खाका भी पेश किया। विकासनगर के मिनी स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने राजधानी में रिंग रोड (राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 24ए) पर टेढ़ी पुलिया चौराहे पर जंक्शन सुधार सहित 1830 मीटर लंबे, 5.5 मीटर ऊंचे, चार लेन फ्लाईओवर का लोकार्पण किया। इस फ्लाईओवर की निर्माण लागत 88 करोड़ रुपये है। इसी राजमार्ग पर उन्होंने खुर्रमनगर चौराहे से इंदिरानगर सेक्टर-25 चौराहे तक 180 करोड़ रुपये की लागत से प्रस्तावित चार लेन फ्लाईओवर व जंक्शन सुधार कार्य का भी शिलान्यास किया। फ्लाईओवर के लिए उन्होंने नितिन गडकरी और मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताया।रक्षा मंत्री ने बताया कि लखनऊ में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के भवन निर्माण के लिए 36 एकड़ जमीन चिन्हित की जा रही है। उन्होंने बताया कि लखनऊ के लधानी समूह ने हाल ही में दक्षिण कोरिया की एडिसन मोटर्स नामक इलेक्ट्रिकल वाहन निर्माता कंपनी के साथ अनुबंध पत्र (एमओयू) हस्ताक्षरित किया है। इससे लखनऊ में 700 करोड़ रुपये के निवेश से इकाई स्थापित होगी।राजनाथ ने कहा कि लखनऊ से कानपुर के बीच 4700 करोड़ रुपये की लागत से प्रस्तावित 63 किलोमीटर लंबा एक्सप्रेस हाइवे विकास की नई धुरी बनकर उभरेगा। इससे बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर सृजित होंगे। उन्होंने बताया कि लखनऊ के चारों ओर 5400 करोड़ रुपये की लागत से बनायी जा रही 104 किमी लंबी आठ लेन वाली आउटर रिंग रोड का निर्माण कार्य इसी साल दिसंबर तक पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है। इसमें सुल्तानपुर रोड से अयोध्या मार्ग तक लगभग 300 करोड़ रुपये की लागत से 12 किलोमीटर लंबे छह लेन मार्ग का निर्माण पूर्ण हो चुका है। पंचायत चुनाव के बाद इस मार्ग का लोकार्पण किया जाएगा। इस मौके पर राजनाथ सिंह ने नितिन गडकरी से लखनऊ के लिए 10 और विकास परियोजनाओं को मंजूरी देने का अनुरोध किया, जिसे गडकरी ने सहर्ष स्वीकार कर लिया।राजनाथ ने कहा कि लखनऊ में 5जी लांच होते ही विश्वस्तरीय साइबर कनेक्टिविटी मिलेगी। कार्यक्रम को नितिन गडकरी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व दिनेश शर्मा ने भी संबोधित किया। समारोह में कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन, सिद्धार्थनाथ सिंह, ब्रजेश पाठक, महेंद्र सिंह, महापौर संयुक्ता भाटिया तथा पार्टी के विधायक व सांसद मौजूद थे।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ में नकली माल पर ब्रांडेड कंपनी की पैकिंग का खेल उजागर,चार ग‍िरफ्तार

» लखनऊ में खुलेंगे ई-सुविधा केंद्रों के सभी काउंटर, जमा कर सकेंगे बिल

» कोविड डयूटी में जान गंवाने वाले रोडवेज कर्मियों को जल्द मिलेगी आर्थिक मदद

» सरकार का सख्त कदम, शवों को नदियों में प्रवाहित करने से रोकने के लिए गठित की समिति

» लखनऊ में छट रहे कोरोना के काले बादल, 700 से नीचे गिरा नए संक्रमितों का ग्राफ; 12 की मौत