यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यूपी पंचायत चुनाव टिकट बंटवारे में कार्यकर्ताओं को वरीयता देने में बीजेपी अडिग, ललितपुर व अंबेडकरनगर के जिलाध्यक्ष का त्याग-पत्र


🗒 मंगलवार, अप्रैल 06 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
यूपी पंचायत चुनाव टिकट बंटवारे में कार्यकर्ताओं को वरीयता देने में बीजेपी अडिग, ललितपुर व अंबेडकरनगर के जिलाध्यक्ष का त्याग-पत्र

लखनऊ, उत्तर प्रदेश होने जा रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में आम कार्यकर्ताओं को आगे करने के फैसले पर अडिग रहते हुए भारतीय जनता पार्टी नेतृत्व ने टिकट पाने वाले प्रदेश व क्षेत्रीय पदाधिकारियों के अलावा जिला अध्यक्ष व महामंत्रियों को संगठन के दायित्व से मुक्त कर दिया है। इसके चलते ललितपुर व अंबेडकरनगर में नए जिलाध्यक्षों की तैनाती कर दी गई है। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने अंबेडकरनगर में मिथलेश त्रिपाठी व ललितपुर में राजकुमार जैन को नया जिलाध्यक्ष नामित किया है।प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला ने बताया कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में प्रत्याशी बनाए जाने के कारण ललितपुर के जिलाध्यक्ष जगदीश लोधी और अंबेडकरनगर के कपिलदेव का त्याग-पत्र स्वीकार कर लिया गया है। इसी कड़ी में जो जिला महामंत्री पंचायत चुनाव लड़ रहे हैं, उनको भी पदमुक्त कर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि पंचायत चुनाव में स्थानीय व पुराने कार्यकर्ताओं को बढ़ावा देने के लिए पार्टी ने प्रदेश व क्षेत्रीय टीम के पदाधिकारियों को टिकट मिलने पर त्याग-पत्र देने के निर्देश दिए थे। पंचायत चुनाव के लिए नियुक्त किए संयोजकों को भी टिकट की दौड़ में शामिल होने की मनाही थी। पंचायत चुनाव को वर्ष 2022 के विधानसभा निर्वाचन का पूर्वाभ्यास मान रही भाजपा ने विधायकों और सांसदों के परिजनों को इस चुनाव से दूर रखने का फैसला लिया था। नेतृत्व का मानना है कि पंचायत चुनाव में विधायकों व सांसदों के परिजनों को उतारा जाएगा तो इसका नुकसान मिशन-2022 की सफलता पर पड़ सकता है। विधायकों को कार्यकर्ताओं को ही पंचायत चुनाव लड़ाने और विजयी बनाने के निर्देश हैं, ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में संगठन को ताकत मिले। निचले स्तर पर आम कार्यकर्ता मजबूत होगा तो इसका सीधा लाभ 2022 की जंग में मिलेगा।पंचायत चुनाव में टिकट वितरण में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और महामंत्री संगठन सुनील बंसल द्वारा दिखाई जा रही सख्ती का संदेश आम कार्यकर्ता तक पहुंच रहा है। सूत्रों का कहना है कि पार्टी द्वारा घोषित प्रत्याशियों को विजयी बनाने के लिए काम नहीं करने वालों को चिन्हित कर अनुशासनात्मक कार्रवाई की तैयारी है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» UP में 9 IPS अधिकारियों का तबादला, 6 जिलों के बदले गए पुलिस कप्तान

» राम भक्तों के हत्यारे न दें कोई सलाह - केशव प्रसाद मौर्य

» ऑफ‍िस छोड़ OT पहुंचे परिवार कल्याण महानिदेशक डाॅ. राकेश

» लखनऊ एयरपोर्ट पर कस्टम ने पकड़ा 1.17 करोड़ का सोना

» वीडियो वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेलिंग

 

नवीन समाचार व लेख

» सपा एमएलसी कमलेश पाठक और उनके भाइयों की करोड़ों की संपत्ति होगी कुर्क, डीएम ने दिया आदेश

» UP में 9 IPS अधिकारियों का तबादला, 6 जिलों के बदले गए पुलिस कप्तान

» पीएम मोदी ने की केंद्रीय मंत्रियों और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ बैठक

» इटावा में सरेराह युवती पर मनचलों ने फेंका तेजाब

» कानपुर देहात में TET पास कराने के नाम पर डेढ़ लाख की ठगी