यूपी में धर्मस्थलों में एक बार में सिर्फ पांच को प्रवेश, शासन ने जारी की गाइडलाइन

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यूपी में धर्मस्थलों में एक बार में सिर्फ पांच को प्रवेश, शासन ने जारी की गाइडलाइन


🗒 सोमवार, अप्रैल 12 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
यूपी में धर्मस्थलों में एक बार में सिर्फ पांच को प्रवेश, शासन ने जारी की गाइडलाइन

लखनऊ, । तेजी से फैलते जा रहे संक्रमण से बचाव के लिए नाइट कफ्यूZ के बाद शासन ने अब कुछ और सख्ती की दिशा में कदम बढ़ाए हैं। लखनऊ की तरह ही पूरे प्रदेश के लिए व्यवस्था बना दी है कि धर्मस्थल में एक बार में सिर्फ पांच श्रद्धालुओं को ही प्रवेश दिया जाएगा। इसके साथ ही निगरानी के लिए गांव, मोहल्ला और वार्ड स्तर पर कोरोना वारियर्स की टीमें गठित की जाएंगी। इस संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश मुख्य सचिव आरके तिवारी की ओर से जारी किए गए हैं।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर सार्वजनिक कार्यक्रमों में बंद स्थान पर पचास और खुले स्थान पर अधिकतम सौ व्यक्तियों की अनुमति के आदेश सहित अन्य दिशा-निर्देश रविवार को जारी किए गए। शासन ने ही निर्देश दिया है कि जिन जिलों में प्रतिदिन सौ से अधिक कोरोना केस पाए जा रहे हैं या कुल एक्टिव केस पांच सौ से अधिक हैं, वहां रात नौ से सुबह छह बजे तक रात्रि निषेधाज्ञा लागू करने पर विचार कर लिया जाए। कोरोना कफ्यूZ का पालन वरिष्ठ अधिकारी खुद निरीक्षण कर कराएं। प्रत्येक पुलिस कर्मी मास्क और ग्लव्स का इस्तेमाल करे। प्रत्येक गांव, मोहल्ला और वार्ड स्तर पर कोरोना वारियर्स की टीमें गठित की जाएं। इनमें होमगार्ड, पीआरडी, एनसीसी, एनएसएस आैर विभिन्न संस्थाओं के कार्यकर्ता रखे जाएं। इन टीमों से संबंधित रजिस्टर बनाकर थानों में रखे जाएं। विभिन्न विभागों का सहयोग लें और जिलाधिकारी द्वारा मुख्य विकास अधिकारी या अपर जिला मजिस्ट्रेट को निगरानी के लिए नामित किया जाए। मुख्य सचिव ने कहा है कि रेलवे स्टेशनों पर वर्तमान में समर स्पेशल ट्रेनों से काफी यात्री आ रहे हैं। इसे देखते हुए एक समय में सभी यात्रियों की जांच के लिए पर्याप्त टीमें लगाई जाएं। स्टेशन पर आने वाले सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग, एंटीजेन टेस्ट और जरूरत हो तो आरटीपीसीआर जांच कराएं। अपर पुलिस महानिदेशक रेलवे सभी जीआरपी थानों से सूचना एकत्र कर गृह विभाग को उपलब्ध कराएं। संक्रमण से बचाव के लिए मंडियों को लेकर भी चिंता जताई गई है। शासन ने कहा है कि जरूरत हो तो स्थानीय मंडियों को भीड़भाड़ वाले स्थानों से दूर या खुले स्थान पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए स्थानांतरित किया जाए। मंडी में अलग-अलग दुकानों को अलग-अलग समय पर खोला जाए। फुटकर दुकानों को सुबह सात से शाम सात बजे तक खोलें, ताकि एक समय में अधिक व्यक्ति इकट्ठे न हो सकें। सुझाव दिया है कि ज्यादा से ज्यादा मोबाइल इकाइयां डोर स्टेप डिलीवरी से ही नागरिकों तक फल-सब्जी पहुंचाएं। डीएम, एसएसपी और एसपी को सुबह चार से आठ बजे तक संयुक्त रूप से मंडियों के निरीक्षण का निर्देश दिया गया है। चीनी मिल गेट और क्रय केंद्रों पर भी सैनिटाइजर, दवा, एंबुलेंस आदि की व्यवस्था रहनी चाहिए। लखनऊ, गोरखपुर, प्रयागराज, वाराणसी, कानपुर, आगरा, झांसी, बरेली, मेरठ, गाजियाबाद, मथुरा, आजमगढ़, पंडित दीनदयाल नगर, अयोध्या, बस्ती, मुरादाबाद और अलीगढ़ को लेकर शासन ने चिंता जताई है। मुख्य सचिव ने इन जिलों के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देशित किया है कि संयुक्त रूप से निरीक्षण कर कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए की गई व्यवस्थाओं की रिपोर्ट मांगी है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ में किशोरी से सरेआम छेड़छाड़ के बाद दो पक्षों में संघर्ष, जमकर हुआ पथराव; दारोगा चोटिल

» लोगों को मास्क पहनने के लिए करना होगा मजबूर - सीएम योगी

» TTE के भाई ने मृतक के भाई के खिलाफ दी तहरीर, पीटने के लगाया आरोप

» लोहिया अस्पताल में सामान्य मरीजों के साथ हो रहा अछूता जैसा व्यवहार

» उत्तर प्रदेश में नए कोरोना संक्रमितों में कमी, बढ़ती जा रही मृतकों की संख्या

 

नवीन समाचार व लेख

» बिजनौर मे पैसों को लेकर कहासुनी, दावत के दौरान युवक की पीट-पीटकर हत्या

» लखनऊ में किशोरी से सरेआम छेड़छाड़ के बाद दो पक्षों में संघर्ष, जमकर हुआ पथराव; दारोगा चोटिल

» लोगों को मास्क पहनने के लिए करना होगा मजबूर - सीएम योगी

» गांवों में कोरोना रोकने के लिए सरकार की नई गाइडलाइंस जारी

» बहराइच में गर्भवती पर बनाया देह व्यापार का दबाव, इन्कार पर लाठी डंडों से पीटा; नवजात की मौत