यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ में COVID-19 संक्रमित की प्राइवेट अस्पताल में भर्ती होने के लिए CMO रेफरेंस लेटर की बाध्यता खत्म


🗒 गुरुवार, अप्रैल 22 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
लखनऊ में COVID-19 संक्रमित की प्राइवेट अस्पताल में भर्ती होने के लिए CMO रेफरेंस लेटर की बाध्यता खत्म

लखनऊ, । कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर में उत्तर प्रदेश में सर्वाधिक प्रभावित लखनऊ को लेकर स्वास्थ्य विभाग हजार मौत के बाद गंभीर हो पाया। लखनऊ में अब कोरोना संक्रमित को किसी भी प्राइवेट अस्पताल में भर्ती होने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी(सीएमओ) के पत्र की जरूरत नहीं होगी।लखनऊ में निजी क्षेत्र के कोविड अस्पतालों में संक्रमित या फिर संभावित को भर्ती होने के लिए अब सीएमओ और इंट्रीगेटेड कोविड कमांड सेंटर( आइसीसीसी के रेफरल लेटर की जरूरत नहीं होगी। संक्रमित लोग अब प्राइवेट कोविड अस्पतालों में सीधे भर्ती हो सकेंगे। इसके इतर सभी सरकारी और अनुबंधित अस्पतालों में रेफरल लेटर की व्यवस्था जारी रहेगी। बेड खाली होने की स्थिति में निजी अस्पताल अब किसी भी कोविड संक्रमित को सीधे भर्ती कर सकेंगे। लखनऊ में अब तक कोरोना वायरस के संक्रमण से 1584 लोगों की मौत हो चुकी है। लखनऊ में कोरोना वायरस संक्रमण का उपचार कराने के लिए बेहद परेशान लोगों को अब बेड की उपलब्धता पर निजी चिकित्सालयों में आसानी से भर्ती किया जाएगा। अब किसी भी निजी चिकित्सालयों में कोरोना संक्रमित मरीजों की भर्ती के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी की परमिशन की जरूरत नहीं होगी। इनको तो अब निजी चिकित्सालय स्वत: भर्ती कर सकते हैं।लखनऊ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संजय भटनागर ने बताया अभी तक निजी चिकित्सालयों में कोरोना उपचाराधीन मरीजों को भर्ती होने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी की परमिशन चाहिए होती थी लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। निजी हॉस्पिटल संक्रमितों को भर्ती कर इलाज कर सकते हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि निजी प्रयोगशालाएं कोरोना संक्रमित के साथ ही संभावित की जांच निरंतर जारी रखें और समय से रिपोर्ट उपलब्ध कराएं। जिससे कि जांच और इलाज समय से हो सके।इसके साथ ही उन्होंने बताया कि 45 वर्ष से अधिक उम्र के जो भी लोग कोरोना का लगवाने के लिए आ रहे हैं। उनका टीकाकरण किया जा रहा है। लखनऊ के 45 वर्ष से अधिक की उम्र के सभी लोग स्वयं तथा अपने परिवार के लोगों को टीका अवश्य लगवाएं। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» उत्तर प्रदेश में बारिश से नदियों में बढ़ा जलस्तर

» लखनऊ आरटीओ कार्यालय परिसर के अंदर भरा है घुटनों तक पानी

» एक के साथ एक फ्री प्लाट का ऑफर दे ठग लिए करोड़ों

» डाॅ. अलका राय व डाॅ. शेषनाथ राय की जमानत अर्जी खारिज

» गिरोह के सरगना समेत 4 ATS के हत्थे चढ़े

 

नवीन समाचार व लेख

» उत्तर प्रदेश में बारिश से नदियों में बढ़ा जलस्तर

» भारत में आपकी नीति नहीं कानून का शासन ही सर्वोच्च - ट्विटर

» सपा नेता के जुलूस में शामिल पूर्व ब्लाक प्रमुख गिरफ्तार

» उन्नाव में चुनावी रंजिश बनी बुजुर्ग की निर्मम हत्या ,दारोगा-सिपाही निलंबित

» रिचा दुबे की शिकायत पर एसडीएम ने दिए निर्देश