लखनऊ के DRDO अस्‍पताल में 90 फीसद बेड खाली, तीमारदार गिड़गिड़ाते रहे, नहीं भर्ती हुए मरीज

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ के DRDO अस्‍पताल में 90 फीसद बेड खाली, तीमारदार गिड़गिड़ाते रहे, नहीं भर्ती हुए मरीज


🗒 गुरुवार, मई 06 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
लखनऊ के DRDO अस्‍पताल में 90 फीसद बेड खाली, तीमारदार गिड़गिड़ाते रहे, नहीं भर्ती हुए मरीज

लखनऊ, कोविड कमांड सेंटर की अव्यवस्था के शिकार शहर में कई लोग हैं। अवध शिल्प ग्राम में जिस 505 बेड के कोविड अस्पताल को डीआरडीओ ने बनाया, वहां बड़ी संख्या में बेड खाली इसलिए रह हैं, क्योंकि कोविड कमांड सेंटर यहां गंभीर मरीजों को भेजने में असफल रहा। ऐसा तब है जब इस अस्पताल को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मिशन मोड पर बनवाया और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका उद्घाटन बुधवार को किया था। बुधवार से शुक्रवार तक यहां 250 बेड पर कोरोना मरीजों को भर्ती किया जाना था। इनमें 150 आइसीयू और 100 ऑक्सीजन वाले जनरल वार्ड के बेड पर सेना ने बुधवार शाम छह बजे से कोरोना मरीजों की भर्ती शुरू की।बुधवार रात अस्पताल में केवल 11 मरीज ही पहुंचे। गुरुवार दोपहर एक बजे तक यह आंकड़ा केवल 22 का ही रहा, जबकि गुरुवार शाम छह बजे तक इतने बड़े अस्पताल में केवल 42 मरीजों की भर्ती हो सकी, जिसमें 26 मरीजों को आइसीयू में भर्ती किया गया। एक वेंटिलेटर और 15 मरीज आक्सीजन वार्ड में भेजे गए। उधर कोरोना संक्रमित मरीजों की भर्ती के लिए भटक रहे तीमारदार सीधे डीआरडीओ के कोविड अस्पताल पहुंचे, लेकिन यहां उनको मायूसी ही हाथ लगी। कोविड कमांड सेंटर से रेफर किए बिना मरीजों की इस अस्पताल में भर्ती नहीं हो सकी।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» बसपा में बगावत, निलंबित 11 विधायक एक और विधायक साथ आने पर बनाएंगे नया दल

» विधानसभा सभा चुनाव 2022 में चाचा की पार्टी सहित छोटी दलों से करेंगे गठबंधन

» लखनऊ में मां से नाराज होकर घर से निकली किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म, छह आरोपित गिरफ्तार

» धारदार हथियार से किए थे 16 वार, तीन गिरफ्तार

» उत्तर प्रदेश में अब 7221 सक्रिय केस, 24 घंटे में 340 मिले नए संक्रमित