लखनऊ में नहीं दिखा चांद, अब जुमे के दिन 14 मई को रोजेदारों की ईद

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ में नहीं दिखा चांद, अब जुमे के दिन 14 मई को रोजेदारों की ईद


🗒 बुधवार, मई 12 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
लखनऊ में नहीं दिखा चांद, अब जुमे के दिन 14 मई को रोजेदारों की ईद

लखनऊ, इबादत का महीना रमजान का 27वां रोजा सोमवार को पूरा हो चुका है। अब ईद के चांद के दीदार को बुधवार की शाम से ही मौलाना आसमान की ओर से टकटकी लगाए देख रहे थे। हर कोई खुले आसमान में चांद की एक झलक पाने को बेकरार था। मरकजी चांद कमेटियों ने जब देर शाम चांद न दिखने का एलान किया तो एक ओर से रोजेदारों में ईद न होने की उदासी थी तो दूसरी ओर 30वें रोजे पर एक दिन और अल्लाह की इबादत करने का मौका मिलने की खुशी थी। 30 दिन का रोजा रहने का मौका मिलने पर रोजेदारों ने एक दूसरे को फोन पर बधाई दी। शुक्रवार को जुमे के दिन ईद होने से तैयारियों का समय मिलने का संतोष भी रोजेदारों में नजर आया।इमाम ईदगाह मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने बताया कि बुधवार को चांद नहीं दिखाई दिया। जिसकी वजह से ईद अब शुक्रवार को होगी। ऐसे में रोजेदार 30वीं रमजान पर एक दिन का रोजा गुरुवार को भी रख सकेंगे। मौलाना ने नमाज के साथ ही अल्लाह से समाज को कोरोना से महफूज करने की दुआ करने की अपील की है। उन्होंने ईद पर गले न मिलने और सोशल मीडिया के माध्यम से मुबारकबाद देने और घर में परिवार के साथ ईद की खुशियां मनाने की गुजारिश भी की है। शिया धर्म गुरु और इमाम-ए-जुमा मौलाना कल्बे जवाद ने सभी को ईद के मुबारक दिन शारीरिक दूरी बनाकर नमाज घरों में नमाज पढ़ने और गले लगाने से परहेज करने की गुजारिश की है। इफ्तारी के बाद चांद देखने की उत्सुकता सभी रोजेदारों में नजर आई। मरकजी चांद कमेटियों की ओर से रोेजेदारों से भी चांद के दिखाई देने की सूचना देने की अपील की थी जिसके चलते रोजेदार छतों पर आसमान की ओर टकटकी लगाए बैठे थे। देर शाम चांद न दिखाई देने और शुक्रवार को ईद होेने की घोषणा की गई। वहीं पुराने लखनऊ और अमीनाबाद सहित सभी बाजारों में में लॉकडाउन के प्रतिबंध के चलते दुकानें बंद थीं । इसकी वजह से ईद की खरीदारी का बाजार भी ठंडा रहा।कोरोना संक्रमण के चलते व लॉकडाउन की पाबंदियों पर अमल करने के लिए ईदगाह या जामा मस्जिद और शहर की अन्य मस्जिदों में ईद पर पांच रोजेदार ही नमाज अदा करेंगे। काजी-ए- शहर मुफ्ती इरफान मियां फरंगी महली ने इसका फतवा भी बीते दिनों जारी किया था। वहीं मजलिस-ए-उलमाए हिंद की वेबसाइट पर ईद की लाइव  नमाज होगी। वरिष्ठ शिया धर्मगुरु और इमाम-ए-जुमा मौलाना कल्बे जवाद ने सभी को शुक्रवार को ईद के मुबारक दिन शारीरिक दूरी बनाकर नमाज घरों में नमाज पढ़ने और गले लगाने से परहेज करने की गुजारिश की है। उन्होंने बताया कि मजलिस-ए-उलमाए हिंद की वेबसाइट पर लाइव होगी ईद की नमाज लाइव होगी। सुबह 11 बजे से नमाज अदा की जाएगी। ईद के लिए हमेशा से ही रहा है कि पहले गरीबो की मदद करें फिर खुद ईद मनाएं। ऐसे में इस बार इसका खास ख्याल रखें। अच्छे-अच्छे पकवान खाने से अच्छा है कि जरूरतमंदों की मदद करें।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» बसपा में बगावत, निलंबित 11 विधायक एक और विधायक साथ आने पर बनाएंगे नया दल

» विधानसभा सभा चुनाव 2022 में चाचा की पार्टी सहित छोटी दलों से करेंगे गठबंधन

» लखनऊ में मां से नाराज होकर घर से निकली किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म, छह आरोपित गिरफ्तार

» धारदार हथियार से किए थे 16 वार, तीन गिरफ्तार

» उत्तर प्रदेश में अब 7221 सक्रिय केस, 24 घंटे में 340 मिले नए संक्रमित