साइन सिटी और आर संस के निदेशकों पर एक और मुकदमा

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

साइन सिटी और आर संस के निदेशकों पर एक और मुकदमा


🗒 मंगलवार, जुलाई 13 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
साइन सिटी और आर संस के निदेशकों पर एक और मुकदमा

लखनऊ,। लोगों के हजारों करोड़ डकार कर राजधानी से भागे साइन सिटी के निदेशकों के खिलाफ गोमतीनगर कोतवाली में एक और मुकदमा दर्ज हुआ है। प्लाट दिलाने के नाम पर सैन्य कर्मी समेत चार लोगों से लाखों की ठगी की गई है। पीडि़तों की सम्मिलित तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया है। वहीं आर संस कंपनी के निदेशकों के खिलाफ प्लॉट के नाम पर 3.25 लाख की ठगी का मुकदमा गोमतीनगर कोतवाली में दर्ज हुआ है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।नई दिल्ली कैंट निवासी विजय कुमार सैन्य कर्मी हैं। आरोप है कि उन्हें प्लाट खरीदना था। 2016 में साइन सिटी के की टाउनशिप के बारे में जानकारी हुई। इसके बाद उन्होंने संपर्क किया तो एजेंटों ने कई तरह की स्कीम बताई। स्कीम के अनुसार साढ़े छह लाख रुपये में प्लाट बुक करा दिया। वहीं, बनारस नाटी इमली निवासी संतोष उपाध्याय ने बीकेटी स्थित पैराडाइज योजना में आठ लाख रुपये देकर प्लाट बुक कराया। इसके बाद संतोष ने अपनी बेटियों के नाम पर 18 लाख रुपये का निवेश किया। उन्हें रुपये दोगुना करने का झांसा कंपनी के कर्मचारी तारिक अनवर और लता भारती ने दिया। वहीं, फतेहपुर छोटी बाजार के शोएब निहाल ने साढ़े चार लाख रुपये देकर प्लाट बुक कराया। जबकि पानदरीबा निवासी अंजुला माथुर ने 1.20 लाख रुपये में प्लाट बुक कराया था। उक्त लोगों का आरोप है कि तय समय सीमा पूरी होने के बाद भी उक्त लोगों ने न तो प्लाट दिया और न ही रुपये बढ़ाकर दिए। जब रुपयों की मांग की तो निदेशक राशिद नसीम और उनके एजेंट धमकाने लगे। इसके बाद गोमतीनगर थाने में तहरीर दी। तहरीर के आधार पर राशिद नसीम उसके भाई और एजेंटों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» जेल में पीएफआइ सदस्योंं से मिलने पहुंचीं चार महिलाओं को पुलिस ने पकड़ा

» सपा-बसपा ने भाजपा पर साधा निशाना

» भारत बंद को लेकर यूपी में अलर्ट, चप्पे-चप्पे पर कड़ी नजर

» मौलाना कलीम के बैंक ट्रांजेक्शन पर एटीएस की निगाह

» नौकरी के पहले दिन ही रेस्‍टोरेंट में वेटर की हत्‍या, पांच हिरासत में