छोटे अपराध डालते कानून-व्यवस्था पर बड़ा असर - DGP मुकुल गोयल

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

छोटे अपराध डालते कानून-व्यवस्था पर बड़ा असर - DGP मुकुल गोयल


🗒 बुधवार, जुलाई 14 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
छोटे अपराध डालते कानून-व्यवस्था पर बड़ा असर - DGP मुकुल गोयल

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में अलकायदा के दो आतंकी पकड़े जाने के बाद डीजीपी मुकुल गोयल उत्तर प्रदेश की आंतरिक सुरक्षा को लेकर काफी गंभीर हैं। उनका मानना है कि आंतरिक सुरक्षा एक बड़ी चुनौती है और एटीएस ने अच्छा काम किया है। कानून व्यवस्था के मुद्दे पर उनका मानना है कि छोटे अपराधों पर काबू किया जाना अधिक जरूरी है।डीजीपी मुकुल गोयल ने कहा कि उत्तर प्रदेश में पहले भी आतंकी घटनाएं हुई हैं। इनसे निपटने के लिए ही एटीएस का गठन हुआ था, जिसने काफी सफलताएं भी हासिल की हैं। आंतरिक सुरक्षा को लेकर अन्य चुनौतियां भी हैं। अभिसूचना तंत्र को और विकसित किया जाएगा। मेरा मानना है कि ऐसे मामलों की जांच में तकनीक का उपयोग बढ़ाने के साथ-साथ हर मामले की गहराई तक जाने की जरूरत है। किसी भी मामले को अधूरा छोड़ने की गुंजाइश नहीं है।उन्होंने कहा कि कहीं-कहीं पर निचले स्तर पर ऐसा हो सकता है कि शिकायत हो जाए। समग्रता में देखा जाए तो ऐसा नहीं है। जहां भी इस तरह की शिकायतें मिली हैं या कोई घटना हुई है, वहां कानून के अनुरूप कार्रवाई की गई है। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। हालांकि अभी थोड़ा वक्त है। अभी आगे आने वाले त्योहार हैं। पुलिस का पहला काम यही है कि सभी त्योहार शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हों। अच्छी कानून-व्यवस्था किसी भी सरकार की प्राथमिकता होती है। पुलिस निष्पक्ष होकर अपनी भूमिका निभाएगी।डीजीपी मुकुल गोयल ने कहा कि पुलिस कमिश्नर प्रणाली देश के कई बड़े शहरों में सफलतापूर्वक लागू की गई है। अब यूपी में भी चार शहरों में यह प्रणाली लागू है। अधिक आबादी वाले बड़े शहरों में क्विक रिस्पांस की जरूरत होती है इसलिए इस प्रणाली में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सीआरपीसी की कुछ धाराओं के तहत मजिस्ट्रेट पावर पुलिस को मिल जाती है। दोहरा नियंत्रण नहीं रहता। प्रदेश में पुलिस कमिश्नर प्रणाली अपने शुरुआती दौर में है। यहां तैनात पुलिस अधिकारियों को अपने काम से साबित करना है कि यह प्रणाली बेहतर है। अभी इस प्रणाली को और समय देना होगा।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» महिला से पर्स झपटने वाले गिरोह के तीन शातिर दबोचे

» यूपी में पेड़ और घर गिरने से 35 लोगों की मौत

» सभी स्कूल और कालेज दो दिन के लिए बंद

» कैंसर संस्थान के निदेशक प्रो शालीन कुमार की छुट्टी

» सुप्रीम कोर्ट का उत्तर प्रदेश पशुपालन विभाग में फर्जी टेंडर दिलाने के आरोपितों को जमानत देने से इन्कार