यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

चुनाव की रणनीति तय, 'अंत्योदय' सिद्धांत पर चलेगा मिशन 2022


🗒 शुक्रवार, जुलाई 16 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
चुनाव की रणनीति तय, 'अंत्योदय' सिद्धांत पर चलेगा मिशन 2022

लखनऊ। पंडित दीनदयाल उपाध्याय का अंत्योदय यानी समाज के अंतिम व्यक्ति के उदय का सिद्धांत ही आगामी विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की रणनीति होगी। सेवा ही संगठन अभियान जमीनी स्तर पर तेज करते हुए पार्टी सरकार की जनहितकारी योजनाएं सेतु बनकर गरीब-जरूरतमंदों तक पहुंचाएगी। प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में तय हुआ है कि रेहड़ी-रिक्शा चालकों के टीकाकरण से लेकर प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना से गरीबों तक राशन पहुंचाने में कार्यकर्ता जुटेंगे।भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक शुक्रवार को प्रदेश मुख्यालय में हुई। इसमें आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर आगामी कार्यक्रम और अभियानों की रूपरेखा तय की गई। उद्देश्य यही है कि सेवा के जरिये जनता से जुड़ाव कैसे बढ़ाया जाए। कार्यक्रम और अभियानों को विस्तार से प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने कार्यसमिति के सामने रखा। उन्होंने कहा कि पार्टी संगठन को मजबूत करने के लिए हमें लगातार काम करते रहना है। संगठन को बूथ स्तर तक सशक्त करते हुए अपनी संगठनात्मक संरचना को और भी मजबूत करना है।प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने बताया कि आगामी दिनों में जिला और मंडल स्तर पर कार्यसमिति बैठकें होंगी। कोरोना की तीसरी लहर की चुनौती को देखते हुए स्वास्थ्य स्वयंसेवक तैयार किए जाएंगे, जो गांव, वार्ड और मोहल्लों में जाकर जनता की सहायता करेंगे। हर गांव और वार्ड में एक युवा तथा एक महिला कार्यकर्ता को स्वास्थ्य स्वयंसेवक बनाया जाएगा। यह प्रक्रिया 20 जुलाई तक पूरी कर ली जाएगी।बंसल ने बताया कि 23, 24 व 25 जुलाई को पार्टी प्रदेश भर में विशेष टीकाकरण अभियान चलाएगी, जिसमें सेवादाता जैसे दूध, सब्जी, फल, राशन विक्रेता, टैक्सी, ठेला चालक, रेहड़ी, पटरी, दुकानदार आदि को टीकाकरण के लिए जागरूक भी करेंगे। पंजीकरण कराने में सहायता की जाएगी। अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण हो सके, इसके लिए कार्यकर्ता जागरुकता अभियान चलाएंगे। इसके अलावा भाजपा सरकार द्वारा चलाई जा रही गरीब कल्याण अन्न योजना में सभी पात्र लाभान्वित हों, इसके लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। साथ ही 25 जुलाई को प्रदेश के सभी बूथों पर पार्टी के पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि और कार्यकर्ता आम जनता के साथ मिलकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात को सुनेंगे।संगठन के ढांचे को और मजबूत करने की रणनीति भी भाजपा ने बनाई है। प्रदेश महामंत्री संगठन ने बताया कि प्रदेश के सभी सेक्टरों पर शक्ति केंद्र प्रमुख और संयोजक, मंडल अध्यक्ष, प्रभारी और महामंत्रियों के साथ बैठकें करेंगे। बूथ समिति सत्यापन अभियान के तहत 16 अगस्त से 15 सितंबर तक प्रत्येक बूथ समिति का भौतिक सत्यापन किया जाएगा। पार्टी के मंडल से लेकर प्रदेश पदाधिकारी और प्रदेश सरकार के मंत्री, सांसद, विधायक, आयोगों, निगमों, बोर्डों के अध्यक्ष व सदस्य, नगर निकाय, त्रिस्तरीय पंचायत के अध्यक्ष व सदस्य सभी 27262 शक्ति केंद्रों के सभी बूथों पर पहुंचकर बूथ समिति का भौतिक सत्यापन करेंगे। इसके अलावा 825 ब्लाकों में 26 से 31 जुलाई तक पार्टी के चुने हुए प्रधान व बीडीसी सदस्यों का ब्लाक स्तर पर अभिनंदन किया जाएगा। आगामी दिनों में लखनऊ में जिला पंचायत अध्यक्ष व ब्लाक प्रमुखों के सम्मान की योजना भी है।प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में राजनीतिक प्रस्ताव प्रदेश उपाध्यक्ष व विधान परिषद सदस्य लक्ष्मण आचार्य ने प्रस्तुत किया, जिसका समर्थन प्रदेश उपाध्यक्ष पंकज सिंह व प्रदेश मंत्री मीना चौबे ने किया। प्रस्ताव पर चर्चा कर सर्वसम्मति से पारित किया गया। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में काशी के कायाकल्प के जिक्र के साथ ही कहा गया कि कभी प्रदेश सपा, बसपा व कांग्रेस की सरकारों के कारण अराजकता, जंगलराज, गुंडाराज, विपन्नता से जूझ रहा था, जबकि आज सर्वोत्तम प्रदेश बनने की ओर अग्रसर है।प्रस्ताव में राम मंदिर निर्माण, कोविड प्रबंधन के साथ ही विपक्ष की नकारात्मक भूमिका और योगी सरकार की कानून व्यवस्था को रखा गया। इसमें कहा गया कि पूर्व की प्रदेश सरकारों में कानून व्यवस्था ध्वस्त रही है। विपक्षी सपा, बसपा व कांग्रेस द्वारा आतंकवादी गतिविधियों को भी बढ़ावा दिया जा रहा है, जिसके कारण सुरक्षा पर खतरा मंडरा रहा है। भाजपा सरकार ने कानून व्यवस्था के क्षेत्र में मील का पत्थर स्थापित किया है। अपराध और अपराधियों के खिलाफ जीरो टालरेंस की नीति व अपराध पर अंकुश लगाने में सरकार कामयाब रही है। अब अपराधी सीना तानकर चलना भूल गया है। जनसंख्या नियंत्रण की नीति को भी प्रस्ताव में शामिल करते हुए उल्लेख किया गया कि बढ़ती आबादी के कारण बढ़ रही समस्याओं को संज्ञान में लेते हुए भाजपा सरकार इसकी रोकथाम के लिए जनसंख्या नियंत्रण की नीति जारी करने की तैयारी कर रही है, ताकि यह प्रदेश उन्नति की नई ऊंचाइयों को छू सके।