यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आनलाइन क्लास के वाट्सअप ग्रुप में भेजी अश्लील फोटो और वीडियो


🗒 रविवार, जुलाई 18 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
आनलाइन क्लास के वाट्सअप ग्रुप में भेजी अश्लील फोटो और वीडियो

लखनऊ,। लखनऊ विश्वविद्यालय में आनलाइन क्लास के लिए बनाए गए एक विभाग के वाट्सअप ग्रुप में अराजक तत्वों ने अश्लील वीडियो और मैसेज भेज दिए। यही नहीं, ग्रुप में छात्राओं और शिक्षकों के नाम से भी अभद्र भाषा का प्रयोग किया। यह सिलसिला कई दिनों से जारी है। परेशान छात्राओं ने इसकी शिकायत कुलपति कार्यालय के ई-मेल पर भी की। लेकिन कार्रवाई न होने पर रविवार को विश्वविद्यालय के कुलपति, डीन स्टूडेंट्स वेलफेयर से लेकर सायबर सेल के ट्वीटर पर कर दी। जिसके बाद हड़कंप मच गया। मामले में चीफ प्राक्टर प्रो. दिनेश कुमार ने हसनगंज थाने में इसकी रिपोर्ट दर्ज करने के लिए शिकायत की है।मामला लखनऊ विश्वविद्यालय के प्राचीन भारतीय इतिहास विभाग का बताया गया है। ट्वीटर पर की गई शिकायत के मुताबिक विभाग ने आनलाइन कक्षाएं संचालित होने के लिए प्रत्येक विषय का व्हाट्सअप ग्रुप बना रखा है। इसमें लगातार कुछ अराजक तत्व कक्षा के छात्रों के नाम से अलग-अलग लड़कियों को अभ्रद भाषा, अश्लील व असहज चित्रों का मैसेज भेज रहे हैं। इससे पहले हिन्दी विषय में भी ऐसी घटना हो चुकी है। संबंधित विषय के शिक्षक को इस बात की पूरी जानकारी है। कुलपति कार्यालय के ई-मेल पर भी शिकायत की जा चुकी है। लेकिन कोई भी कार्यवाही नहीं हुई। किसी भी व्हाट्सप ग्रुप को बनाने के बाद उसमें एडमिन ही नंबर जोड़ सकते हैं । हर विभाग के शिक्षक ही एडमिन हैं। ऐसे में किसी बाहरी लड़के का नंबर बिना जांच पड़ताल किए कैसे ग्रुप पर जोड़ लिया। इस मामले में लविवि के प्रवक्ता डा. दुर्गेश श्रीवास्तव का कहना है कि संबंधित विभाग के एक शिक्षक के ग्रुप पर इस तरह की जानकारी आई तो उन्होंने विभागाध्यक्ष प्रो. प्रियूष भार्गव को अवगत कराया। प्रवक्ता के मुताबिक कुछ व्हाट्सअप ग्रुप में शिक्षक साथ छात्र भी एडमिन होते हैं ? नंबर कैसे जोड़ा गया, यह जांच का विषय है। मामले में प्राक्टर को अवगत करा दिया गया है।मामला संज्ञान में आया है। हसनगंज थाने में इसकी रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए प्रार्थना पत्र दिया जा रहा है। -प्रो. दिनेश कुमार, चीफ प्राक्टर, लविवि