यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ में IAS का रिश्तेदार बता व्यवसायी से 1.76 करोड़ की ठगी


🗒 सोमवार, जुलाई 19 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
लखनऊ में IAS का रिश्तेदार बता व्यवसायी से 1.76 करोड़ की ठगी

लखनऊ,। जालसाजों ने खुद को एक आइएएस अफसर का भाई बताकर व्यवसायी से 1.76 करोड़ रुपये ठग लिए। जालसाजों ने व्यवसायी से खुद को एक फार्मा कंपनी का मालिक भी बताया था और व्यवसायी को कोरोना टेस्टिंग किट की सप्लाई और मोटे मुनाफे का झांसा दिया। इसके बाद व्यवसायी से 1.76 करोड़ रुपये ठग लिए। पीडि़त व्यवसायी की शिकायत पर गृह विभाग के संयुक्त सचिव के निर्देश पर गोमतीनगर कोतवाली में जालसाजों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।इंस्पेक्टर गोमतीनगर केके तिवारी ने बताया कि राजाजीपुरम बी-ब्लाक निवासी कारोबारी अभिषेक सिंह की तहरीर पर अभय सिंह, अशोक कुमार सेन और एसके सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। अभिषेक ने बताया कि उनकी फर्म में बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन एंड जनरल आर्डर की सप्लाई की जाती है। गत वर्ष जून में उनकी मुलाकात विशालखंड-तीन निवासी अभय सिंह से हुई थी। अभय सिंह ने कहा कि उनके मित्र एसके सिंह की मैट्रिक्स हेल्थ केयर के नाम से फर्म है। वहीं एक अन्य मित्र अशोक सिंह फार्मासिस्ट हैं। तीनों से गोमतीनगर में उनकी मुलाकात हुई।अभय ने बताया कि मित्र की कंपनी को पीसीआर मशीन, कोरोना टेस्टिंग किट और अन्य मेडिकल उपकरण की सप्लाई का ठेका मिला है। उसमें रुपये लगाने हैं। 21 फीसद मुनाफा रुपये लगाने वाले पार्टनर को दिया जाएगा। उक्त लोगों ने फार्मा कंपनी के फर्जी दस्तावेज दिखाए जिससे अभिषेक को विश्वास हो गया। आरोप है कि तीनों ने मुनाफे का लालच देकर लच्छेदार बातों में फंसा लिया। इसके बाद अभिषेक रुपये लगाने के लिए तैयार हो गए। 1.90 करोड़ रुपये के सरकारी टेंडर के लिए सारे रुपये दे दिए। आरोपितों ने कहा कि इसमें करीब 40 लाख रुपये का फायदा होना है। अभिषेक ने 1.90 करोड़ रुपये में कुछ खाते में और नकद दिए। कई माह बीत गए पर मुनाफे का एक रुपये तक नहीं मिला। अभिषेक ने जब मुनाफे की रकम की मांग की तो उक्त लोग टाल मटोल करने लगे। विरोध पर कुछ रुपये दिए भी। इसके बाद उसे फर्जी चेक दी।पीडि़त का आरोप है कि जब वह अभय और उसके साथियों को फोन करता तो वह फोन भी रिसीव नहीं करते। बाद में रुपये देने से मना कर दिया और धमकाने लगे। इसके बाद मामले की जानकारी गृह विभाग के अधिकारियों को दी। इसके बाद संयुक्त सचिव विनय कुमार सिंह के निर्देश पर व्यवसायी अभिषेक की तहरीर पर आरोपित अभय सिंह, अशोक कुमार सेन और एसके सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। मामले की जांच की जा रही है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» मथुरा में श्रीकृष्ण जन्म स्थल का दस वर्ग किलोमीटर क्षेत्र तीर्थ स्थल घोषित

» 'हम वचन निभाएंगे' कांग्रेस प्रतिज्ञा यात्रा

» शनिदेव मंदिर में पूजा के दौरान दो पक्ष भिड़े, जमकर चले लाठी-डंडे व कुर्सियां

» नवविवाहिता की गला घोंटकर हत्‍या, हिरासत में पति

» केमिकल गोदाम में भीषण आग-ताबड़तोड़ धमाकों से दहशत, दमकल कर्मियों की हालत बिगड़ी