यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

तहसील व थाना दिवस में दोबारा न देना पड़े प्रार्थना पत्र - CM योगी


🗒 मंगलवार, जुलाई 20 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
तहसील व थाना दिवस में दोबारा न देना पड़े प्रार्थना पत्र - CM योगी

लखनऊ । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अब स्पष्ट संकेत दे दिया है कि जन शिकायतों के निस्तारण में हीलाहवाली पर कार्रवाई का चाबुक चलना तय है। तहसील और थाना दिवस में आने वाली शिकायतों के पांच दिन में निस्तारण की व्यवस्था बना चुके सीएम योगी ने अधिकारियों को यह ध्यान रखने की सख्त हिदायत दी कि तहसील और थाना दिवस में किसी को भी दोबारा प्रार्थना पत्र देने की जरूरत न पड़े।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को लोकभवन में आयोजित उच्चस्तरीय बैठक में कहा कि जन समस्याओं और शिकायतों के त्वरित समाधान के लिए प्रत्येक माह के पहले और तीसरे शनिवार को तहसील दिवस, जबकि दूसरे और चौथे शनिवार को थाना दिवस का आयोजन किया जा रहा है। कहा जा चुका है कि तहसील दिवस और थाना दिवस में आने वाले आवेदन पत्रों का निस्तारण हर हाल में अगले पांच दिन में हो जाना चाहिए।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अब अधिकारी यह भी सुनिश्चित कर लें कि किसी भी फरियादी को दोबारा प्रार्थना पत्र देने की जरूरत न पड़े। जनता की संतुष्टि ही अधिकारियों की कुशलता की मानक होगी। इन कार्यक्रमों की जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक सीधी निगरानी करें। उन्होंने समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली (आइजीआरएस) के मामलों को प्राथमिकता पर निस्तारित करने के निर्देश दिए। योगी ने कहा कि सभी जिलाधिकारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महीने में एक दिन व्यापार मंडल व उद्योगों से जुड़े प्रतिनिधियों के साथ संवाद करें। मेरिट के आधार पर उनकी समस्याओं और आवश्यकताओं का तुरंत समाधान किया जाए।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि सभी विभाग हर सप्ताह एक दिन शाम को एक घंटे का समय विभागीय कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान के लिए निर्धारित करें। समस्याओं के समाधान के लिए तुरंत प्रयास होने चाहिए। कोविड संक्रमण से दिवंगत कर्मचारियों के आश्रितों के प्रकरण तुरंत निपटने चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने सीएम हेल्पलाइन के जरिये वरिष्ठ नागरिकों से बातचीत कर मदद दिलाने की कार्ययोजना बनाने को भी कहा है।