मुल्जिम इंजीनियरों को समन जारी

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मुल्जिम इंजीनियरों को समन जारी


🗒 मंगलवार, जुलाई 20 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मुल्जिम इंजीनियरों को समन जारी

लखनऊ, गोमती रिवर फ्रंट घोटाले से जुड़े मनी लांड्रिंग के एक मामले में दाखिल आरोप पत्र पर संज्ञान लेते हुए ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) की विशेष अदालत ने सिंचाई महकमे के तत्कालीन अधीक्षण अभियंता रूप सिंह यादव, अनिल कुमार व सिद्ध नरायन शर्मा को समन जारी करने का आदेश दिया है। जिला जज व ईडी के विशेष जज सर्वेश कुमार ने ईडी से कहा है कि वो मुल्जिमों पर सात दिन में समन का तामीला सुनिश्चित करें। मामले की अगली सुनवाई 20 अगस्त को होगी।ईडी ने इस मामले में मुल्जिम रूप सिंह यादव की 30 लाख, अनिल यादव की 53 लाख व एसएन शर्मा की 15 लाख की संपत्ति भी जब्त की है। दो दिसंबर, 2020 को ईडी ने मुल्जिमों के खिलाफ मनी लांड्रिंग एक्ट की धारा 3/4 में आरोप पत्र दाखिल किया था। ईडी के विशेष वकील कुलदीप श्रीवास्तव का कहना था कि 30 नवंबर, 2017 को सीबीआइ ने गोमती रिवर फ्रंट घोटाला मामले में एफआइआर दर्ज कर जांच शुरू की थी। 18 फरवरी, 2018 को इसी मामले में ईडी ने भी सिंचाई विभाग के आठ अधीक्षण अभियंता गुलेश चंद्रा, एसएन शर्मा, काजीम अली, शिव मंगल यादव, अखिल रमन, कमलेश्वर सिंह, रूप सिंह यादव व सुरेंद्र यादव तथा अन्य के खिलाफ सूचना दर्ज कर अपनी जांच शुरू की।ईडी ने जांच में पाया कि 1,513 करोड़ की गोमती रिवर फ्रंट योजना के तहत रबर डैम व गोमती चैनलाइजेशन प्रोजेक्ट भी बनना था। इसके लिए 597 करोड़ रुपये खर्च किए गए, लेकिन इसके एवज में मुल्जिमों ने 71 करोड़ रुपये सेंटेज चार्ज के रूप में जमा नहीं किया। बल्कि उस फंड का डायवर्जन कर दिया। विवेचना के दौरान मुल्जिम अनिल कुमार का नाम भी प्रकाश में आया। ईडी की विवेचना अभी जारी है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» जेल में पीएफआइ सदस्योंं से मिलने पहुंचीं चार महिलाओं को पुलिस ने पकड़ा

» सपा-बसपा ने भाजपा पर साधा निशाना

» भारत बंद को लेकर यूपी में अलर्ट, चप्पे-चप्पे पर कड़ी नजर

» मौलाना कलीम के बैंक ट्रांजेक्शन पर एटीएस की निगाह

» नौकरी के पहले दिन ही रेस्‍टोरेंट में वेटर की हत्‍या, पांच हिरासत में