यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यूपी में भारत बंद का रहा आंंशिक असर


🗒 सोमवार, सितंबर 27 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
यूपी में भारत बंद का रहा आंंशिक असर

लखनऊ : संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर भारतीय किसान यूनियन ने मुख्य राजमार्गों व मार्गों पर जाम लगाया। सुबह दस से चार बजे तक चक्का जाम में के दौरान एंबुलेंस, सेना के वाहन व स्कूली बच्चे और यात्री जाम में फंसे रहे। सभी जगह प्रशासनिक अधिकारियों को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर जाम समाप्त किया गया। छह घंटे के चक्का जाम के दौरान प्रदर्शनकारियों की यात्रियों से नोंकझोंक हुई। ज्यादातर जिलों में बाजार पूरी तरह खुले रहे। बंद का कुछ जिलों में आंशिक असर दिखा तो ज्यादातर जिलों में बेअसर रहा। गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, हापुड़ में भारत बंद बेअसर रहा। मुख्य बाजार नियमित खुले व खूब चहल-पहल भी रही। आंदोलनकारियों ने मुख्य मार्ग जाम जरूर किए, लेकिन कई स्थानों पर पुलिस ने रूट डायवर्ट कर जाम के असर को काफी हद तक खत्म कर दिया।भारतीय किसान यूनियन ने मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, सहारनपुर, शामली, बिजनौर आदि जिलों में मुख्य मार्गों पर जाम लगाया। थोड़ी देर के लिए यातायात बाधित रहा, लेकिन पुलिस रूट डायवर्ट कर स्थिति को संभाल लिया। चक्का जाम के दौरान एंबुलेंस, सेना के वाहन व स्कूली बच्चे और यात्री जाम में थोड़ी देर फंसे रहे। सभी जगह प्रशासनिक अधिकारियों को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर जाम समाप्त किया गया।मुरादाबाद, सम्भल, रामपुर, अमरोहा में कृषि कानून विरोध आंदोलनकारियों ने रास्ता जाम किया। बरेली मंडल में बंद प्रभावी नहीं दिखा। सभी बाजार खुले रहे। लखनऊ-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित पुराने टोल टैक्स पर करीब आधा घंटा जाम लगाया। पीलीभीत, शाहजहांपुर और बदायूं में भी बंद का कोई असर नहीं दिखा।आगरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, कासगंज, अलीगढ़, हाथरस में ये आहवान बेअसर रहा। सभी जिलों में किसान संगठनों के प्रतिनिधियों ने जुलूस निकाले, प्रशासन को ज्ञापन सौंपे। आगरा में मानव श्रंृखला बनाई, जिससे कुछ देर के लिए यातायात बाधित रहा। हरियाणा में प्रदर्शन के कारण करीब डेढ़ घंटे तक रेल संचालन प्रभावित रहा। दिल्ली की ओर जाने वाली सचखंड एक्सप्रेस आगरा कैंट स्टेशन पर, श्री गंगानगर-नांदेड़ एक्सप्रेस आगरा के रुंदी स्टेशन पर और पश्चिम एक्सप्रेस छाता(मथुरा) पर रुकी रहीं। फिरोजाबाद जिले में प्रशासन ने भाकियू (टिकैत) के कुछ नेताओं को नजरबंद कर लिया था। मथुरा के बलदेव में कुछ व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान तीसरे पहर तक बंद रखे।