यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

ट्रकों का इंजन व चेसिस नंबर बदलकर लेते थे लोन, एसटीएफ ने दबाेचा


🗒 बुधवार, अक्टूबर 06 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
ट्रकों का इंजन व चेसिस नंबर बदलकर लेते थे लोन, एसटीएफ ने दबाेचा

लखनऊ, । ट्रकों के इंजन व चेसिस नंबर बदलकर फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के एक जालसाज को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है। एसटीएफ में सीओ दीपक कुमार सिंह के मुताबिक आरोपित भवानी खेड़ा काकोरी निवासी सुभाष चंद्र को पकड़ा गया है, जिसके पास से जाली कागजात और फर्जी रजिस्ट्रेशन वाले तीन ट्रक समेत अन्य सामान बरामद किए गए हैं।सीओ एसटीएफ ने बताया कि एडीजी एसटीएफ अमिताभ यश ने सभी यूनिट को ट्रकाें के रजिस्ट्रेशन में हेराफेरी करने वाले गिरोह के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए थे। इसके बाद आगरा में 29 सितंबर को दो लोगों को गिरफ्तार कर सात फर्जी ट्रक पकड़े गए थे। गिरोह के बारे में छानबीन के दौरान पता चला कि भवानी खेड़ा में गिरोह के कुछ जालसाज सक्रिय हैं। इसके बाद एसटीएफ ने वहां दबिश दी और सुभाष चंद्र को दबोच लिया। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि उसका मालिक अखिलेश सिंह उर्फ अभिषेक उर्फ मनोज लोन की किश्तें डिफाल्ट हो चुकी गाड़ियों को कम दाम में खरीदता है। इन गाड़ियों को भवानी खेड़ा में लाकर ट्रकों के फर्जी रजिस्ट्रेशन नंबर आरटीओ के कर्मचारियों की मिलीभगत से तैयार किए जाते हैं। इसके बाद ट्रकों पर अंकित मूल चेसिस नंबर को मिटाकर दूसरा चेसिस नंबर लिख दिया जाता है।यही नहीं गिरोह के नसीम व बाबू उर्फ मुमताज इंजन नंबर व डैश बोर्ड पर लगी मूल पट्टी को हटाकर दूसरी पट्टी लगा देते थे। इससे कूटरचित दस्तावेज और इंजन व चेसिस नंबर एक हो जाते थे। इसके बाद गिरोह इन गाड़ियों पर लोन हासिल कर लेता था। आरोपित ने बताया कि वह एक ही गाड़ी पर कई बार लोन लेकर बैंक से रुपये हड़प लेते थे। बाद में किश्त डिफाल्ट कर गाड़ी चोरी की एफआइआर दर्ज करा देते थे। एसटीएफ गिरोह में शामिल अन्य जालसाजों के बारे में पता लगा रही है।