यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र ने कहा- मेरा बेटा निर्दोष


🗒 शुक्रवार, अक्टूबर 08 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र ने कहा- मेरा बेटा निर्दोष

लखनऊ, । उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी कांड को लेकर शुक्रवार को भी सियासी हलचल तेज रही। एक तरफ जहां पूरे मामले में घिरे केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र 'टेनी' ने इस वारदात में आरोपित अपने बेटे आशीष मिश्र का बचाव किया तो वहीं विपक्ष उसकी गिरफ्तारी पर अड़ा रहा। अजय मिश्र ने कहा कि उनका पुत्र निर्दोष है और वह शनिवार को पुलिस की क्राइम ब्रांच के सामने पेश होगा। वहीं मंत्री के बेटे को गिरफ्तारी का मांग को लेकर पंजाब कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू पीड़ित परिवारों से मुलाकात करने के बाद लखीमपुर खीरी में मौन धरने पर बैठ गए हैं। इस बीच आशीष मिश्र को पुलिस की नोटिस के बावजूद पेश नहीं होने पर उनके घर पर एक और नोटिस चस्पा कर दिया।लखीमपुर की घटना में घिरे केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' ने कहा है कि इस वारदात में आरोपित उनका पुत्र आशीष मिश्र उर्फ मोनू निर्दोष है और वह शनिवार को पुलिस की क्राइम ब्रांच के सामने पेश होगा। वह शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उनके सरकारी आवास पर भाजपा के अवध क्षेत्र के सांसदों-विधायकों की बैठक में शामिल होने के लिए लखनऊ आए थे। अजय मिश्र लखीमपुर खीरी के सांसद हैं। बैठक में भाग लेने के लिए वीवीआइपी गेस्ट हाउस से मुख्यमंत्री आवास के लिए रवाना होने से पहले मीडिया से संक्षिप्त बातचीत में उन्होंने कहा कि मेरे बेटे को कल नोटिस मिली थी। आज उसका स्वास्थ्य ठीक नहीं है। वह कल पुलिस के सामने पेश होगा और अपना अभिकथन व साक्ष्य आदि प्रस्तुत करेगा। भाजपा की सरकार निष्पक्ष तरीके से काम करती है। जांच में जो दोषी पाया जाएगा उस पर कार्रवाई होगी। विपक्ष की ओर से केंद्रीय मंत्रिमंडल से अपनी बर्खास्तगी की मांग पर कहा कि विपक्ष तो ऐसी मांग करता ही है।लखीमपुर हिंसा में चार किसानों की हत्या के मुख्य आरोपित और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र उर्फ मोनू पुलिस की नोटिस के बावजूद शुक्रवार को पेश नहीं हुए। उन्हें सुबह दस बजे पुलिस लाइन में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम के समक्ष अपना पक्ष रखना था लेकिन टीम आशीष का इंतजार ही करती रही। दोपहर ढाई बजे पता चला कि वह बीमार हैं और आने में असमर्थ हैं। इसके बाद पुलिस ने उनकी कोठी पर शनिवार को 11 बजे पेश होने के लिए नोटिस चस्पा कर दिया। सीआरपीसी की धारा 160 के तहत बयान दर्ज कराने के लिए आशीष की कोठी पर गुरुवार को नोटिस चस्पा किया गया था। उम्मीद थी कि आशीष पुलिस के सामने अपना पक्ष रखेंगे लेकिन ऐसा न हुआ। दूसरी ओर तिकुनिया हिंसा के दो आरोपितों लवकुश राणा व आशीष पांडेय को क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार को सीजेएम अदालत में पेश किया। सीजेएम चिंताराम ने दोनों आरोपितों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में लेकर जेल भेज दिया।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» दोस्तों संग पार्टी में जा रहे युवक की बाइक ड‍िवाइडर से टकराई-दो की मौत

» सपा से समझौता नहीं हुआ तो सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी प्रसपा - शिवपाल

» मौलाना कलीम सिद्दीकी ने अपने बेटे को सस्ते में बेच दी थी ट्रस्ट की जमीन

» सड़क किनारे चादर से लिपटा मिला महिला का शव

» सरफराज के मोबाइल में मिला मतांतरण का एजेंडा

 

नवीन समाचार व लेख

» मांस की दुकानें बंद कराने को लेकर हंगामा, फायरिंग का आरोप

» दोस्तों संग पार्टी में जा रहे युवक की बाइक ड‍िवाइडर से टकराई-दो की मौत

» सपा से समझौता नहीं हुआ तो सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी प्रसपा - शिवपाल

» गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र ने कहा- मेरा बेटा निर्दोष

» पूर्व चेयरमैन के भाई समेत दो ने किया युवती से सामूहिक दुष्कर्म