यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आशीष मिश्रा मोनू के मित्र अंकित दास का ड्राइवर शेखर भारती गिरफ्तार


🗒 मंगलवार, अक्टूबर 12 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
आशीष मिश्रा मोनू के मित्र अंकित दास का ड्राइवर शेखर भारती गिरफ्तार

लखनऊ, । लखीमपुर खीरी की हिंसा में चार किसान सहित आठ लोगों की मौत के मामले में मंत्री पुत्र आशीष मिश्रा मोनू के बाद उसके मित्र अंकित दास के ड्राइवर शेखर भारती को एसआइटी ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है। यहां पर इस केस में किसानों ने आशीष मिश्रा मोनू के साथ अज्ञात 15 लोगों को नामजद किया है।लखीमपुर खीरी हिंसा के मामले में आशीष पाण्डेय, लवकुश और आशीष मिश्रा मोनू के बाद शेखर भारती के रूप में चौथी गिरफ्तारी है। एसआइटी शेखर भारती को गिरफ्तार करने के बाद सीजेएम की अदालत में पेशी पर लाई है। यहां पर अंकित दास के ड्राइवर की रिमांड मांगी गई है। लखीमपुर खीरी की हिंसा की पड़ताल कर रही एसआइटी उन सभी गुनहगारों को गिरफ्तार करने में जुटी है। जिनका इसमें हाथ साबित हो रहा है। इसी मामले में एसआइटी ने लखनऊ के ठेकेदार और आशीष मिश्रा मोनू के दोस्त अंकित दास के ड्राइवर शेखर को गिरफ्तार किया गया है। इसके बाद सीजेएम की अदालत में पेश किया गया। जहां एसआईटी ने उनकी रिमांड भी अदालत से मांगी है। अंकित दास का ड्राइवर शेखर भारत उस काली फॉर्च्यूनर को चला रहा था जो उस काफिले में प्रमुखता से भागती दिखाई दी। जिसने कई किसानों को रौंदा था।कांग्रेस के बड़े नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वर्गीय अखिलेश दास के भतीजे लखनऊ के कांट्रैक्टर अंकित दास ने इस केस में अपना नाम शामिल होने के बाद लखीमपुर खीरी की सीजेएम कोर्ट में सरेंडर एप्लीकेशन डाली है। अंकित दास की इस केस की जांच कर रही एसआइटी तेजी से तलाश कर रही है। लखीमपुर खीरी केस के मुख्य आरोपित आशीष मिश्र मोनू की गिरफ्तारी और पूछताछ के बाद अब इस मामले में लखनऊ के कांट्रैक्टर अंकित दास की तलाश तेज हो गई है उनके संभावित ठिकानों पर छापेमारी से घबराए अंकित दास ने मंगलवार को सीजेएम के कोर्ट में आत्मसमर्पण की अर्जी दाखिल कर दी। माना जा रहा है कि वह किसी दिन भी न्यायालय में आत्मसमर्पण कर सकता है। एसआईटी भी उसको अब गिरफ्तार करने के लिए ताबड़तोड़ दबिश डाल रही है। लखनऊ के साथ ही नेपाल बॉर्डर तथा गोरखपुर में भी अंकित दास की तलाश की जा रही है।