यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

एसआइटी को आरोपित अंकित दास के फ्लैट में मिली रिपीटर गन तथा पिस्टल


🗒 शुक्रवार, अक्टूबर 15 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
एसआइटी को आरोपित अंकित दास के फ्लैट में मिली रिपीटर गन तथा पिस्टल

लखनऊ, । लखीमपुर खीरी में तीन अक्टूबर की हिंसा में चार किसान सहित आठ लोगों की मृत्यु के मामले में जांच कर रही एसआइटी ने मुख्य आरोपित मंत्री पुत्र आशीष मिश्रा मोनू के साथ ही उसके साथियों पर शिकंजा कस दिया है। गुरुवार को तिकुनिया में सीन रीक्रिएशन के बाद शुक्रवार को टीम ने बड़ी सफलता प्राप्त की है।एसआइटी की टीम ने मोनू मिश्रा के साथी अंकित दास के लखनऊ के फ्लैट से रिपीटर गन तथा पिस्टल बरामद की है। माना जा रहा है कि घटना के दिन अंकित दास तिकुनिया में फार्च्यूनर पलटने के बाद अपने गनर लतीफ के साथ रिपीटर गन व पिस्टल से फायर करते हुए घटना स्थल से भागे थे। लखीमपुर खीरी से भागने के बाद लखनऊ में अंकित दास ने अपने फ्लैट में रिपीटर गन और पिस्टल को छुपा दिया था। इन्हीं असलहों को बरामद करने के लिए एसआइटी की टीम अंकित दास को लखीमपुर खीरी से लखनऊ लाई थी। फ्लैट से असलहे बरामद करने के बाद एसआइटी की टीम अंकित दास को लेकर होटल सागर सोना वेस्टर्न गई, जहां पर वह घटना वाली रात में रुका था। यहां से टीम ने डीवीआर बरामद की। असलहों की बरामदगी के साथ ही बैलेस्टिक जांच के बाद यह साफ हो जाएगा कि इनसे वारदात वाले दिन वहां पर गोलियां चलाई गई या नहीं। पिस्टल का लाइसेंस अंकित दास के नाम तथा रिपीटर गन का लाइसेंस लतीफ के नाम है।एसआइटी टीम लखीमपुर खीरी हिंसा के मामले में पुलिस रिमांड पर चल रहे लखनऊ के कांट्रैक्टर अंकित दास और निजी सुरक्षाकर्मी लतीफ उर्फ काले को लेकर लखनऊ पहुंची थी। एसआईटी इन दोनों की निशानदेही पर वारदात के वक्त इनके पास मौजूद एक रिपीटर गन व पिस्टल की बरामदगी के लिए आई थी। असलहे जो इन दोनों आरोपितों के खिलाफ मजबूत साक्षय हैं। इन दोनों से पूछताछ के बाद अन्य पर शिकंजा कसने की तैयारी है। दोपहर करीब 12 बजे एसआईटी टीम लखीमपुर की पुलिस लाइन में बने क्राइम ब्रांच के दफ्तर से अंकित दास व उसके गनर लतीफ उर्फ काले को अपने कस्टडी में लिया और लखनऊ पहुंची।अंकित दास और उनके गनर की पुलिस रिमांड का वक्त अब केवल 24 घंटे ही बचा है। एसआईटी इस बचे वक्त के दौरान ही हर वह सुबूत जुटा लेना चाहती है जिससे इनके खिलाफ परस्थित जन्य व इलेक्ट्रोनिक सबूतों को जोड़कर अदालत में पेश किया जा सके।लखीमपुर खीरी कांड में एसआईटी अब तक छह लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। जिसमें मुख्य आरोपित केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री का बेटा आशीष मिश्रा मोनू भी है। इनके साथ लवकुश, आशीष पाण्डेय, अंकित दास, इसका गनर लतीफ उर्फ काले और अंकित के वाहन चालक शेखर भारती को भी गिरफ्तार किया गया है। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ में किसान मोर्चा के सात लोग गिरफ्तार

» ओमप्रकाश राजभर अभी भी BJP के साथ आने को इच्छुक

» विजयादशमी पर अतिरिक्त सर्तक, दी दोनों पर्व की बधाई

» भाजपा के सहयोगी अपना दल के सुर अलग, दलित या पिछड़े को बनाने की मांग

» योजना बनाकर करते हैं वारदात; पकड़े जाने पर काट देते हैं गला

 

नवीन समाचार व लेख

» एसआइटी को आरोपित अंकित दास के फ्लैट में मिली रिपीटर गन तथा पिस्टल

» आठ माह से गायब युवती का कब्र में मिला कंकाल, प्रेमी व पिता गिरफ्तार

» लखनऊ में किसान मोर्चा के सात लोग गिरफ्तार

» कड़ी सुरक्षा के बीच स्मृति ईरानी ने अहोरवा भवानी में टेका मत्था; चढ़ाई चुनरी

» ओमप्रकाश राजभर अभी भी BJP के साथ आने को इच्छुक