यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

स्वास्थ्य सुविधाओं पर यूपी के चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने अखिलेश को घेरा


🗒 गुरुवार, अक्टूबर 21 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
स्वास्थ्य सुविधाओं पर यूपी के चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने अखिलेश को घेरा

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर लगातार सवाल उठा रहे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने घेरा है। उन्होंने अखिलेश यादव की कोरोना जांच कराते हुए फोटो ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा कि 'योगी सरकार में हर नागरिकों को मिल रहा स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ'। यूपी के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने यह भी लिखा कि 8.17 करोड़ से अधिक लोगों का कोरोना टेस्ट कर यूपी देश में नंबर वन पर है। सुरेश खन्ना ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को स्वास्थ्य सुविधाओं के क्षेत्र में यूपी द्वारा किए जा रहे बेहतर प्रदर्शन पर घेरने की कोशिश की है। वहीं, सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं का हाल जनता जानती है। कोरोना की दूसरी लहर में किस तरह के हाल हो गए थे जनता से कुछ छुपा नहीं है। उस समय अस्पतालों में न बेड मिल रहे थे और न दवाइयां। मरीजों को आक्सीजन तक सरकार मुहैया नहीं करा पा रही थी। सरकार विज्ञापनों के जरिए झूठा प्रचार कर सच्चाई छुपा नहीं सकती है। सरकार अपनी नाकामियां छुपाने के लिए मजाक बना रही है।सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा अजीबोगरीब पार्टी है। कोई जिए-मरे, चाहे जैसी आपदा आए भाजपा हमेशा उत्सव मनाने में ही मगन रहती है। वह अपनी आदत से मजबूर है कि आपदा में भी उसे अवसर और उत्सव अच्छा लगता है। वर्ष 2022 में जनता के उत्सव का अवसर आने वाला है। वह भाजपा की विदाई कर देगी। कहा कि जीत के टीके का भी कई बार उत्सव मनाया जा चुका है। हर बार रिकार्ड टीकाकरण का दावा होता है। कोरोना काल में लोगों को भयानक त्रासदी से गुजरना पड़ा। मौतों का सिलसिला थम नहीं रहा था। लाशें भी टोकन पर जलने लगी थीं। अस्पतालों में दवा, इलाज के अभाव में मरीज तड़पते रहे। आक्सीजन के लिए मारामारी मची रही। भाजपा नेतृत्व घंटा, ताली व थाली बजाकर खुशियां मनाने में लगा रहा। भाजपा सरकार ने एक यूनिट भी बिजली का उत्पादन नहीं बढ़ाया, फिर भी झूठे दावे का उत्सव मनाती रही।