यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब उनके पास राजनीति के लिए मुद्दे नहीं बचे - अदिति सिंह


🗒 शनिवार, नवंबर 20 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अब उनके पास राजनीति के लिए मुद्दे नहीं बचे - अदिति सिंह

लखनऊ, । रायबरेली की सदर सीट से कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि अब उनके पास राजनीति के लिए मुद्दे नहीं बचे है। कृषि कानून विधेयक लाए जाने पर उनको दिक्कत हुई थी, जब उसे जब कानून निरस्त कर दिया गया तब भी उन्हें दिक्कत है। आखिर वह चाहती क्या हैं इसे स्पष्ट रूप से कहना चाहिए।कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने कहा कि प्रियंका गांधी सिर्फ इस मुद्दे का राजनीतिकरण कर रही हैं। अब उनके पास राजनीति करने के लिए मुद्दे नहीं बचे हैं। उन्होंने लखीमपुर खीरी व अन्य मुद्दों का भी हमेशा राजनीतिकरण किया है। लखमीपुर घटना की सीबीआई जांच चल रही है, सुप्रीम कोर्ट इस पर संज्ञान ले रहा है। अगर उन्हें इन संस्थाओं पर भरोसा नहीं करती है, तो मुझे समझ में नहीं आता कि वह किस पर भरोसा करती है।रायबरेली से कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने एक फिर प्रियंका गांधी पर हमला बोला है। हालांकि अदिति सिंह पहले भी अपनी पार्टी और उनके वरिष्ठ नेताओं पर हमलावर होती रही हैं। कृषि कानून लागू करने से लेकर उसे निरस्त करने के बाद प्रियंका गांधी द्वारा पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी को लेकर विधायक अदिति सिंह ने सवाल उठाया है। विधायक अदिति सिंह ने कहा है कि विधेयक लाए जाने पर प्रियंका गांधी को समस्या हुई थी। जब कृषि कानून को निरस्त कर दिया गया है तब भी उन्हें समस्या हो रही है।बता दें कि कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने लखनऊ में शनिवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान पीएम नरेन्द्र मोदी को संबोधित पत्र को साझा किया है। इस पत्र में उन्होंने लिखा है कि 'लखीमपुर किसान नरसंहार में अन्नदाताओं के साथ हुई क्रूरता को पूरे देश ने देखा। किसानों को अपनी गाड़ी से कुचलने का मुख्य आरोपी आपकी सरकार के केंद्रीय गृह राज्यमंत्री का बेटा है। राजनीतिक दवाब के चलते इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार ने न्याय की आवाज को दबाने की कोशिश की। उच्चतम न्यायालय ने इस संदर्भ में कहा कि सरकार की मंशा देखकर लगता है कि सरकार किसी विशेष आरोपी को बचाने का प्रयास कर रही है।'