यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सीएम योगी का टीकाकरण में तेजी लाने के निर्देश


🗒 मंगलवार, जनवरी 25 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सीएम योगी का टीकाकरण में तेजी लाने के निर्देश

लखनऊ । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कोविड संक्रमण की स्थिति की समीक्षा के लिए वर्चुअल मीटिंग की। सीएम योगी ने इस उच्च स्तरीय बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिए कि 31 जनवरी तक हर हाल में 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी 14.74 करोड़ वयस्कों को टीके की पहली डोज और 75 प्रतिशत वयस्कों को दोनों डोज लगाई जाए। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए रणनीति तैयार की जाए। उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान में और तेजी लाने के लिए सभी संभव प्रयास किए जाएं।उच्च स्तरीय बैठक में में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश में 18 वर्ष से अधिक उम्र के जिन 14.74 करोड़ वयस्कों को वैक्सीन लगाई जानी है, उनमें से अब तक 14.48 करोड़ वयस्कों को टीके की पहली डोज लगा दी गई है। यानी 98.2 प्रतिशत वयस्क टीके की पहली डोज लगवा चुके हैं। अब 26 हजार वयस्क ही वैक्सीन लगवाने से बचे हैं। ऐसे में शत प्रतिशत पहली डोज लगाने का तय लक्ष्य से पहले ही पूरा हो जाएगा। वहीं इसमें से 9.76 करोड़ वयस्क टीके की दोनों डोज लगवा चुके हैं। यानी 66 प्रतिशत से अधिक वयस्क वैक्सीन की दोनों डोज लगवाकर कोरोना से बचाव के लिए अपना सुरक्षा चक्र मजबूत कर चुके हैं।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अधिकारियों ने बताया कि 15 वर्ष से 18 वर्ष के बीच की उम्र के कुल 1.40 करोड़ किशोरों को टीका लगाया जाना है। अभी तक 83.18 लाख वयस्क टीके की पहली डोज लगवा चुके हैं। अब तक 60 प्रतिशत किशोर वैक्सीन की पहली डोज लगवा चुके हैं। वहीं 57.54 करोड़ हेल्थ वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और बीमार बुजुर्गों को वैक्सीन की सतर्कता (प्रिकाशन) डोज लगाई जा रही है। अब तक 8.96 लाख लोगों ने सतर्कता डोज लगवा ली है। यानी 16 प्रतिशत ने वैक्सीन लगवाई है।बता दें कि यूपी में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या लगातार घट रही है। बीते 24 घंटे में कोरोना के 11583 नए रोगी मिले और इसके मुकाबले कहीं ज्यादा 18875 मरीज स्वस्थ हुए। पिछले आठ दिनों से मरीजों की संख्या लगातार घट रही है। 17 जनवरी को प्रदेश में कोरोना के 106616 रोगी थी और अब यह घटकर 86563 रह गए हैं। ऐसे में 20053 सक्रिय केस कम हुए हैं। इन मरीजों में से 84141 रोगी होम आइसोलेशन यानी घर पर अपना इलाज करा रहे हैं। अस्पतालों में 2422 मरीज भर्ती हैं।