यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अखिलेश समेत विधान सभा के 402 सदस्यों ने ली शपथ


🗒 मंगलवार, मार्च 29 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अखिलेश समेत विधान सभा के 402 सदस्यों ने ली शपथ

लखनऊ, । अठारहवीं विधान सभा के नवनिर्वाचित सदस्यों को सदन की सदस्यता की शपथ दिलाने का कार्यक्रम मंगलवार को भी जारी रहा। आज बचे हुए 54 वि‍धायकों को सदन की सदस्यता की शपथ प्रोटेम स्पीकर रमापति शास्त्री ने द‍िलाई। बता दें क‍ि जेल में होने की वजह से आज रामपुर से विधायक चुने गए आजम खां शपथ लेने नहीं आ सके। इसल‍िए शपथ लेने वाले कुल व‍िधायकों की संख्‍या 402 रही।विधान सभा मंडप में सोमवार को शुरु हुए शपथग्रहण कार्यक्रम में प्रोटेम स्पीकर रमापति शास्त्री ने नेता सदन के रूप में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, नेता विरोधी दल के तौर पर अखिलेश यादव और विधायक निर्वाचित हुए मंत्रिपरिषद के सदस्यों को शपथ दिलाई थी। सदस्यों को शपथ दिलाने के लिए राज्यपाल की ओर से नामित किये गए वरिष्ठ सदस्यों सुरेश खन्ना, रामपाल वर्मा और जय प्रताप सिंह ने सदन के अन्य सदस्यों को शपथ दिलाई। पहले दिन कुल 348 सदस्यों को शपथ दिलाई गई थी। बाकी सदस्यों को मंगलवार को यानी आज शपथ दिलाई गई। शपथग्रहण समारोह के दौरान सत्ता पक्ष के सदस्यों की ओर से लगाये गए जय श्री राम, भारत माता की जय, वंदे मातरम के नारों से सदन गूंजता रहा तो सपा सदस्यों ने 'जय भीम, जय समाजवाद' और 'जय जवान, जय किसान' के नारे बुलंद किए।विधान सभा चुनाव में एक-दूसरे पर तीखे शब्दबाण चलाने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर सबकी निगाहें लगी थीं। अखिलेश तकरीबन 10.45 बजे सदन में पहुंचे तो सपा सदस्यों के बीच उनसे मिलने और उनके साथ सेल्फी लेने की होड़ मच गई। भाजपा के वरिष्ठ नेता सूर्य प्रताप शाही, सतीश महाना और दयाशंकर ने विपक्ष की बेंच की ओर आकर अखिलेश से कुशलक्षेम पूछी। लगभग 10 मिनट बाद मुख्यमंत्री ने भी सदन में प्रवेश किया तो उन्हें भाजपा सदस्यों ने घेर लिया। भाजपा सदस्यों का अभिवादन स्वीकार करने के बाद योगी अखिलेश के पास पहुंच गए। उनके साथ सुरेश कुमार खन्ना व भाजपा के अन्य सदस्य भी थे। सदन में नेता सदन और नेता विरोधी दल की हैसियत से जब योगी और अखिलेश का आमना-सामना हुआ तो दोनों ने गर्मजोशी से हाथ मिलाया था।सोमवार सुबह 11 बजे प्रोटेम स्पीकर रमापति शास्त्री ने अध्यक्ष के आसन से सभी सदस्यों का स्वागत किया था। उन्होंने अपेक्षा की कि सभी सदस्य आने वाले दिनों में गंभीरता से विधान सभा की चर्चा में भाग लेंगे और सदन के सुचारु संचालन में सहयोग करेंगे। प्रोटेम स्पीकर के आह्वान पर सभी सदस्यों ने अवसर की गंभीरता का अनुभव करने के लिए खड़े होकर दो मिनट का मौन धारण किया। प्रोटेम स्पीकर ने सबसे पहले नेता सदन के तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सदन की सदस्यता की शपथ दिलाई। योगी जब शपथ लेने के लिए अध्यक्ष के आसन की ओर जा रहे थे तो सत्ता पक्ष के सदस्यों ने भारत माता की जय, जय श्री राम के नारे लगाए। उनके शपथग्रहण करने के बाद भी सदन इन नारों से गूंजता रहा। इसके बाद नेता प्रतिपक्ष की हैसियत से अखिलेश यादव का नाम शपथ लेने के लिए पुकारा गया तो सपा सदस्य देर तक जोर से मेज थपथपाते रहे। इस दौरान सपा सदस्यों ने जय समाजवाद के नारे भी लगाए। इसके बाद सतीश महाना ने सदन की सदस्यता की शपथ ली थी।इसके बाद प्रोटेम स्पीकर ने सदन के सदस्य निर्वाचित हुए मंत्रियों को शपथग्रहण कराई। शपथ लेने वालों में ब्रजेश पाठक, सूर्य प्रताप शाही, बेबी रानी मौर्य, लक्ष्मी नारायण चौधरी, जयवीर सिंह, नंद गोपाल गुप्ता 'नंदी', अनिल राजभर, योगेंद्र उपाध्याय, नितिन अग्रवाल, कपिल देव अग्रवाल, संदीप सिंह, गिरीश चंद्र यादव, गुलाब देवी, असीम अरुण, दयाशंकर सिंह, डा.अरुण सक्सेना, मयंकेश्वर शरण सिंह और बलदेव औलख शामिल थे। उस समय सदन में अनुपस्थित धर्मपाल सिंह व राकेश सचान ने बाद में शपथ ली। मंत्रियों के शपथग्रहण के दौरान सुरेश कुमार खन्ना अखिलेश यादव के बगल में बैठकर उनसे गुफ्तगू करते दिखे। इसके बाद सदस्यों को शपथ दिलाने की जिम्मेदारी बारी-बारी से सुरेश कुमार खन्ना, रामपाल वर्मा और जय प्रताप सिंह ने निभाई। योगी तकरीबन दो घंटे सदन में रहे और दोपहर 12.55 बजे चले गए। इसके लगभग 10 मिनट बाद अखिलेश भी सदन से चले गए। सोमवार को शपथग्रहण कार्यक्रम दोपहर तीन बजे तक चला।