यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

दुकानदार ग्राहकों को चुना लगाने में दिनदहाड़े मस्त अधिकारियों की चुप्पी दुकानदारों की चांदी


🗒 रविवार, सितंबर 08 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
दुकानदार ग्राहकों को चुना लगाने में दिनदहाड़े मस्त अधिकारियों की चुप्पी दुकानदारों की चांदी

परतावल ब्लाक में गिट्टी, बालू छड़ सीमेन्टआदि की दुकानों पर लूट मची हुई है लेकिन अधिकारी इस पर चुप्पी धारण किये हुए है और दुकानदार ग्राहकों को चुना लगाने में मस्त है इसकी शिकायत जब ग्राहक दुकानदारों से करते है तो झगड़ा तक हो जाता है।
बताते चले कि परतावल ब्लाक में कई दर्जन छड़ ,सीमेन्ट, गिट्टी,बालू की दुकाने है और इसमे प्रमुख रूप से परतावल बाजार में तीन ,परतावल चौराहे पर तीन,छपिया में तीन ,महदेवा में दो ,हरपुर में तीन ,धरमौली में एक सहित पूरे ब्लाक में लगभग छोटा बड़ा मिलाकर लगभग तीन दर्जन दुकान है लेकिन कुछ दुकानदारों को छोड़ दिया जाय तो अधिकतर दुकानों पर ग्राहकों को चुना लगाया जाता है तथा माप तौल विभाग को सिर्फ पैसे से मतलब है यह पैसा लेकर दुकानदारों को मनमानी करने के लिए छोड़ दिये है जबकि जिले के आला अधिकारियो का भी इसमे कोई रुचि नही है जिससे दुकानदार मनमानी करने पर आमादा है और इतना ही नहीं अगर एक कुंतल छड़ को सही से तौला जाय तो तीन से पांच किलो तक कम दिया जाता है जबकि गिट्टी और बालू का भी यही हाल है जिसको सभी ग्राहक समझ भी नही पाते है और चुपचाप लेकर चले जाते है ऐसे दुकानों पर रेट अन्य दुकानों से सस्ता होता है जिसे ग्राहक समझ नही पाता है और खुशी खुशी उसे लेकर चला जाता हैं वही जब कोई होशियार ग्राहक अगर इस पर आपत्ति जताता है तो उससे दुकानदार झगड़ा कर लेते है और सामान देने से मना कर देते है।
ऐसे में सभी ग्राहकों को चाहिए कि अगर वह ट्रेडर्स की दुकानों पर सामान लेने जाए तो सावधानी बरतें नही यो रेट के चक्कर मे उन्हें ठगी का शिकार होना पड़ेगा क्योंकि माप तौल विभाग तो पैसे लेकर चुप्पी साधे हुए है जबकि आला अधिकारियों को भी इससे कोई लेना देना नही है अगर ठीक से इसकी जांच शुरू कर दिया जाय स्मरण रहे कि परतावल क्षेत्र में आज तक कोई भी अधिकारी जाँच करने नही जाते है जिसके वजह से दुकानदार चांदी ग्राहकों के जेब को दिनदहाड़े काटा जा रहा है परंतु विभागीय अधिकारी मौन धारण करके अपनी नाकामी को दर्शा रहे है।