यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

महोबा -मेरा गाँव मेरी धरोहर के अंतर्गत ग्राम पंचायतों के सांस्कृतिक धरोहरों का सर्वे शूरू


🗒 बुधवार, मई 04 2022
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
महोबा -मेरा गाँव मेरी धरोहर के अंतर्गत ग्राम पंचायतों के सांस्कृतिक धरोहरों का सर्वे शूरू

महोबा ।   आल्हा ऊदल हमारे महोबा की शान है ,अगर महोबा में आल्हा और ऊदल चौक न बने होते तो हम कैसे बताते महोबा को आल्हा ऊदल की नगरी , जनपद में छिपी हुई विरासत अब एप्स के जरिया से होगी कैद , 

गाँव की सांस्कृतिक धरोहर की सूचना को अब मोबाइल में कैद किया जायेगा। जिसके लिये भारत सरकार के सांस्कृतिक मंत्रालय और सीएससी के मध्य पिछले दिनों अनुबन्ध किया जा चुका है। जनपद महोबा में इस योजना का ट्रायल भी किया जा चुका है पाईलेट सर्वे के दौरान जिले के कुछ पंचायतो में सीएससी कर्मी के द्वारा सर्वे का कार्य किया भी जा चुका है। यह कार्य देश में पहली बार किया जा रहा है जिसको भारत सरकार द्वारा मेरा गाँव मेरी धरोहर नाम दिया गया है। इस योजना के तहत जिला महोबा के कृषि  सभागार में सीएससी संचालको को ट्रेनिंग करायी गयी ,अब यह कार्य सीएससी संचालको द्वारा शुरू भी किया जा चुका है सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार के अंतर्गत सीएससी कॉमन सर्विस सेंटर और केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्रालय भारत सरकार के साझा सहयोग से पहली बार यह कार्य किया जा रहा है, जिसको मेरा गाँव मेरी धरोहर नाम दिया गया है। शब्द से सीधा आशय है कि गाँव की विरासत इस सर्वे के दौरान 9 विशेष बातों को दर्ज किया जाना है।

●पारंपरिक भोजन (Traditional Foods) ●पारंपरिक पोशाक (Traditional Dress) ●गहने (Ornaments) ●पारंपरिक कला और शिल्प (Traditional Arts and Crafts) ●विश्वास (Beliefs) ●प्राकृतिक और निर्मित विरासत (Natural and Built Heritage) ●त्योहार और मेले (Festivals and fairs) ●प्रसिद्ध हस्तियां (Famous Personalities) ●प्रमुख कलाकार (Prominent Artists)

इस सर्वे के दौरान गाँव के लोगो से कुछ जानकारी ले कर दर्ज करना है जिसमे गाव कि खास पहचान क्या है , गाँव कि खास सांस्कृतिक पहचान ,गाव के प्रसिद्ध स्थान ,प्रसिद्ध किवदंती ,प्रसिद्ध व्यक्ति ,विशेष पकवान ,विशेष आभूषण ,विशेष कपडे आदि के बारे में जानकारी दर्ज कि जानी है इन सभी से सम्बंधित जानकारी ,फोटो,विडियो आदि चीजे ऐप पर दर्ज कि जाएगी।  मेरा गाँव मेरी धरोहर के तहत आम व्यक्ति ग्राम के पुराने धरोहरों के बारे में नही जानते है अथवा पुराने धरोहर व इमारत, धार्मिक स्थल विलुप्त होने के कगार में है। उन सारे स्थलों चीजो, कलाकारी आदि का संयोजन एप्प में किया जाएगा, जिसको एक क्लिक से सारी जानकारी ले कर उनको देख सकते है। उसी ग्राम के सम्वन्धित डीजिटल सेवा केंद्र संचालक द्वारा शुरू किया जा चुका है |

महोबा से अन्य समाचार व लेख

» सीएससी से करवाये सभी लोग PMSNY ई-केवाईसी , फिर मिलेगी 11वी क़िस्त

» महोबा -मेरा गाँव मेरी धरोहर के अंतर्गत ग्राम पंचायतों के सांस्कृतिक धरोहरों का किया जाएगा सर्वे

» डीएम को पत्र लिख उठाई जल भराव समस्या का निदान करने की मांग

» अज्ञात कारणो के चलते युवक ने लगाई फांसी, मौत

» खेत के पास अज्ञात वृद्ध का मिला शव, फैली सनसनी