यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

महोबा-प्रवासी मजदूरों को लेकर आ रही डीसीएम पलटी, तीन महिलाओं की मौत


🗒 बुधवार, मई 20 2020
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड

तीन प्रवासी महिलाओं की मौत से मचा हड़कंप
- कुल 25 लोग थे सवार, 17 से अधिक लोग हुए घायल
- दिल्ली से लौट रहे श्रमिको ने छतरपुर के हरपालपुर के पास हुये थे डीसीएम में सवार
- जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी व पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार ने मौके पर पहुंचकर ली जानकारी

महोबा, मोहम्मद आजाद चैधरी। कोविड-19 से वैसे भी हाहाकार मचा हुआ है और आए दिन हो रहे सड़क हादसों से मजदूर काल के गाल में समां रहे है और यह बेहद दर्दनाक है। औरेया में भीसण हादसे में बड़ी संख्या में हुई मौत के बाद अब महोबा जनपद में भी दर्दनाक हादसा हो गया और दिल्ल्ली से लौटकर महोबा आ रहे श्रमिको ने छतरपुर के हरपालपुर पहुचने के पास आगे के सफर के लिए डीसीएम का सहारा लिया। कुछ ही समय चलने के बार रात्रि लगभग साढ़े नौ बजे महुआ मोड़ पर डीसीएम टायर बस्ट/अचानक फटने से तीन प्रवासी महिलाओं की मौत हो गई तो वहीं दर्जनों लोग घायल हो गए। सभी महोबा जनपद के रहने वाले है। इतना लंबा सफर तय करने के बाद खुद के जिले में पहुंचते ही यह हादसा हो गया। बताया गया है कि दिल्ली से कुछ प्रवासी मजदूर हरपालपुर तक जैसे-तैसे आए और यहां से वाहन में कुलपहाड़ के कमालपुरा आ रहे थे। रात्रि में उनका वाहन जिले के पनवाड़ी थाना क्षेत्र के पास महुआ मोड़ में टायर अचानक पंचर होने/बस्ट होने के कारण वाहन पलट गया। जिससे चीख पुकार मच गया और मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। मौके पर प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही सीओ कुलपहाड़ अवध सिंह, एसएसओ पनवाड़ी एके सिंह दलबल के साथ मौके पर पहुंच गए और राहत कार्य शुरू हुआ। यहां बताया जाता है कि डीसीएम में क्रेशर का सामान भरा हुआ था और प्रवासी श्रमिक उसी सामान के नीचे आकर दब गए। सभी घायलों को बाहर निकाला गया और दो घंटे से अधिक समय तक राहत कार्य चलता रहा। इस भीसण दर्दनाक हादसे में 25 साल की हीरादेवी पत्नी हेमप्रकाश निवासी पवा थाना श्रीनगर, 45 साल की संतोसी पत्नी दयाराम निवासी खरेला, अनीता पत्नी कालीचरण 22 साल निवासी बिहार चैकी जैतपुर की मौत हो गई और 17-18 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों में कुछ को झांसी रिफर किया गया है। जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी व पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार ने भी मौके पर पहुंचकर इसकी जानकारी ली। पुलिस ने शवों पोस्टमार्टम के लिए भेजा है और मृतकों के परिवार के लोगों में चीख पुकार मचा है।
इनसेट
दो मासूमों के सिर से उठा साया
महोबा। पनवाड़ी में हुई भीषण दुर्घटना मे तीन मृतक महिलाओ मे से दो मृतक महिला अनीता एवं हीरा अपने पीछे लगभग एक वर्षीय पुत्र को छोड गई।़ दुनिया से जाने के बाद इस मासूम शिशुओं पर आफत टूट पड़ी है। वैश्विक महामारी कोरोना के लाकडाउन ने मां का साया छीन लिया। शिशु अपने मां के शव से लिपट कर विलख- विलख रो रहा था। इस दृश्य को देख घटनास्थल पर सम्पूर्ण प्रशासन एवं समाजसेवी अपनी आंखो मे आंसू न रोक सके। दूसरी मृतक महिला हीरा के साथ मे दबे बच्चे को जब निकाला गया तो लोगो की दृश्य देख सांसे थम गई परन्तु बच्चे को कुछ चोटे आने पर जीवित निकला मौजूद लोगो ने राहत की सांस ली। कुछ लोगो के मुंह से आकस्मिक शब्द निकले जाको राखे साइयां मार सके न कोई। प्रवासी श्रमिकों के साथ यह कोई पहली घटना नहीं है इसके पहले भी कई घटनाएं हो चुकी है और प्रवासी मजदूर वैसे भी सैकड़ों किमी का सफर तय करके आ रहे है लेकिन उनकी किस्मत में शायद अंधेरा ही लिखा हुआ है।

महोबा-प्रवासी मजदूरों को लेकर आ रही डीसीएम पलटी, तीन महिलाओं की मौत

महोबा से अन्य समाचार व लेख

» महोबा-नागरिको को मास्क लगाना अनिवार्य, मास्क न लगाने पर होगी कार्यवाही: एसपी

» महोबा-लाकडाउन का हर हाल में करें पालन नहीं तो होगी कार्यवाही

» महोबा-ई-परामर्श प्रकोष्ठ व एनएसएस की संयुक्त ऑनलाइन बैठक संपन्न

» महोबा-मो0 शाकिर ने अधिवक्ता साथियो को दिया कोरोना के प्रति संदेष

» महोबा-रैपुरा में संचालित गेहू एवं चना क्रय केंद्रों का डीएम ने किया निरीक्षण

 

नवीन समाचार व लेख

» महोबा-लाकडाउन का हर हाल में करें पालन नहीं तो होगी कार्यवाही

» महोबा-ई-परामर्श प्रकोष्ठ व एनएसएस की संयुक्त ऑनलाइन बैठक संपन्न

» महोबा-मो0 शाकिर ने अधिवक्ता साथियो को दिया कोरोना के प्रति संदेष

» महोबा-प्रवासी मजदूरों को लेकर आ रही डीसीएम पलटी, तीन महिलाओं की मौत

» महोबा-रैपुरा में संचालित गेहू एवं चना क्रय केंद्रों का डीएम ने किया निरीक्षण