नहीं रहे प्रसिद्ध कवि वीरेन्द्र सिंह जागीरदार, शोक का माहौल

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

नहीं रहे प्रसिद्ध कवि वीरेन्द्र सिंह जागीरदार, शोक का माहौल


🗒 शनिवार, अगस्त 01 2020
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
नहीं रहे प्रसिद्ध कवि वीरेन्द्र सिंह जागीरदार, शोक का माहौल

महोबा, मोहम्मद आजाद चैधरी। बुन्देलखंड के प्रसिद्ध कवि एवं पत्रकार रामेन्द्र सिंह के दादाजी वीरेन्द्र सिंह जागीरदार जतौरा का निधन 82 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। जिनका अंतिम संस्कार उनके पैतृक गाँव जतौरा में किया गया। बीरेन्द्र सिंह ने छत्रसाल गौरव गाथा, बुंदेलखंड का इतिहास, चरखारी सोन्दर्य नामक प्रसिद्ध काव्य संग्रहों की रचना की थी। अपने जीवन काल में कवि के रूप में उन्होने खूब प्रसिद्ध हासिल की उनके द्वारा रचित लेखो को आज भी लोग बड़ी ही रौचकता से पढते है। अपने जीवनकाल में उन्हें कई प्रसिद्ध अवार्ड मिले थे।

महोबा से अन्य समाचार व लेख

» महोबा-स्वामित्व योजना के सर्वे कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे जिलाधिकारी

» महोबा-क्रिकेट टूर्नामेन्ट निखार रहे खिलाड़ियो की प्रतिभा: नरेश पाठक

» महोबा-मुख्यालय के विभिन्न चैराहो पर खाकी ने लोगो को किया जागरूक

» महोबा-महोबकंठ पुलिस ने वांछित को किया गिरफ्तार

» महोबा-पहली डोज ले चुके स्वास्थ्य कर्मी बोले टीका है सुरक्षित