यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

निलंबित एसपी मणिलाल पाटीदार ने सीएम योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट तक को नहीं छोड़ा


🗒 रविवार, सितंबर 13 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
निलंबित एसपी मणिलाल पाटीदार ने सीएम योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट तक को नहीं छोड़ा

भ्रष्टाचार के आरोपों में निलंबित जिले के तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार धन उगाही के लिए सारी हदें लांघ गए थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के काम में लगी एक कंपनी पर भी वसूली के लिए दबाव बनाने व उत्पीडऩ से नहीं चूके। खुद गृह विभाग का एक पत्र डीआइजी चित्रकूटधाम मंडल की जांच रिपोर्ट के हवाले से यह तस्दीक कर रहा है कि खुद कप्तान की सरपरस्ती में पुलिस वसूली गैंग बन चुकी थी।नौ सितंबर को जारी गृह विभाग के पत्र के मुताबिक पीपी पांडेय इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड लखनऊ की गाडिय़ां एक्सप्रेस-वे में गिट्टी परिवहन का कार्य कर रही हैं। सिपाही राजकुमार कश्यप ने कई बार फोन कर कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर अमित तिवारी को तत्कालीन एसपी के आवास बुलाया। मुलाकात में मैनेजर ने बताया कि कंपनी की 46 गाडिय़ां चलती हैं। तत्कालीन एसपी ने कहा कि उनके फर्म की 86 गाडिय़ों की लिस्ट है, गाड़ी चलानी है तो दो लाख रुपये हर माह देने होंगे।कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी ने पांच सितंबर जबकि बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण में काम करने वाली पीपी पांडेय इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक नीतीश पांडेय ने जुलाई में ही भ्रष्टाचार की लिखित शिकायत शासन से की थी। बता दें, छह लाख रुपये नहीं देने पर फर्जी मुकदमे और हत्या की धमकी झेल रहे इंद्रकांत के वीडियो वायरल करने पर इस मामले ने तूल पकड़ा था। प्रकरण में तत्कालीन एसपी व इंस्पेक्टर सहित चार लोगों पर मुकदमा दर्ज हो चुका है।सिपाही राजकुमार कश्यप व प्रोजेक्ट मैनेजर अमित के बीच 37 बार बात हुई। सिपाही ने 24 बार मैनेजर को कॉल किया था तो मैनेजर ने सिपाही 13 बार। सिपाही बार-बार कॉल कर मैनेजर पर तत्कालीन एसपी से उनके आवास पर मिलने का दबाव बना रहा था।सिपाही राजकुमार ने प्रोजेक्ट मैनेजर अमित की मई में तत्कालीन एसपी से मुलाकात कराई थी। वार्ता विफल हुई तो कंपनी के वाहनों पर कार्रवाई शुरू कर दी गई। गृह विभाग के पत्र के मुताबिक 27 जून की शाम पांच बजे बजे कंपनी के गिट्टी लदे ट्रकों को खरेला मंडी समिति के सामने पकड़ा गया। तत्कालीन एसओ खरेला राजू ङ्क्षसह (अब निलंबित) ने मुकदमा दर्ज किया था। वाहनों कागजात पूरे होने के बावजूद अपूर्ण दिखाकर कार्रवाई दिखाई गई थी। गिरफ्तार कंपनी के चालक शिवानंद, जितेंद्र और अरविंद की जमानत तीन जुलाई को कराई गई।एक्सप्रेस-वे और कारोबारी के मामले में लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर ही शासन ने मणिलाल पाटीदार को निलंबित किया है। इस मामले में जांच के बाद दोषियों पर कार्रवाई निश्चित की जाएगी। मैं पूरे मामले पर नजर रख रहा हूं।-प्रेमप्रकाश, एडीजी

महोबा से अन्य समाचार व लेख

» महोबा-महिला ने अज्ञात कारणो से लगाई फांसी, मौत

» महोबा-कोरोना के चलते नहीं आयोजित होगा पनवाड़ी महोत्सव

» महोबा-खाकी ने बालिकाओ तथा महिलाओं को किया जागरूक

» महोबा-आॅनलाइन वेबिनार के माध्यम से बाल विवाह रोकथाम पर हुयी चर्चा

» बांदा-ग्रामीणों सहित प्रधान ने लगाए अपने ही सचिव पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप

 

नवीन समाचार व लेख

» बिकरू कांड में आरोपित शिवम दुबे की जमानत याचिका को न्यायालय ने किया खारिज

» सीएम योगी बोले- चौधरी चरण सिंह के सपने को साकार कर रही भाजपा, विपक्ष कर रही राजनीति

» विधानभवन के सामने आत्मदाह करने आ रही मां-बेटी को पुलिस ने पकड़ा

» चीन और पाक को छोड़कर अमेरिका सभी दक्षिण एशियाई देशों के साथ बना रहा नया समीकरण

» फतेहपुर में कुएं से बरामद हुआ युवक का शव,