यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

महोबा-व्यापारियों ने सर्वे करने के विरोध को लेकर सौंपा ज्ञापन


🗒 मंगलवार, सितंबर 15 2020
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
महोबा-व्यापारियों ने सर्वे करने के विरोध को लेकर सौंपा ज्ञापन

जिला उद्योग व्यापार मंडी के पदाधिकारियों ने सौंपा ज्ञापन

परिचय:- ज्ञापन सौंपते जिलाध्यक्ष व अन्य पदाधिकारी।
महोबा। जीएसटी विभाग के दस व्यापारियों के प्रति माह सर्वे के अधिकार दिए जाने को लेकर व्यापारियों ने वाणिज्य कर आयुक्त जीएसटी को संबोधित ज्ञापन विभागीय अधिकारियों को सौंपा। जिलाध्यक्ष भागीरथ नगायच व महामंत्री उमेश लाक्षाकार के नेतृत्व में यह ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में कहा गया है कि उप्र उद्योग व्यापार मंडी 1980 से बिक्री कर के सर्वेे का विरोध, उसके बाद वैट के सर्वे का विरोध और अब जीएसटी के सर्वे का विरोध कर रहा है। इन वर्षों में यह प्रमाणित कर दिया है कि सर्वे से विभाग का राजस्व नहीं बढ़ता है और इसी आधार पर जनरल सर्वे और विशेष अनुसंसाधन सर्वे के शाखाओं पर तमाम सरकाररों ने रोक दी थी कि जिसका बजट नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया था। एक जुलाई 2017 में जीएसटी लगा तब से वो प्रत्येक वर्ष बढ़ाकर राजस्व दे रहा है और कोई भी सर्वे नहीं हो रहे है। व्यापारी अपनी ईमानदारी का परिचय दे रहा है। आपदा आदेश पढ़कर व्यापार मंडल के पदाधिकारियों को आश्चर्य हुआ कि आपने न केवल एसबीआई का सर्वे करने का आदेश दे दिया बल्कि प्रत्येक यूनिट को दस सर्वे करने का कोटा भी निर्धारित कर दिया। यह आज प्रजातांत्रिक और अव्यवहारिक आदेश है। पिछली किसी भी सरकार या अधिकारी के द्वारा सर्वे का कोटा निर्धारित नहीं हुआ है। व्यापार मंडल 1980 से निरंतर सर्वे का पक्षदार नहीं है। सर्वे से सरकार का राजस्व नहीं बढ़ता है अधिकारियों के जेब का राजस्व जरूर बढ़ जाता है और इसी कारण पिछली सरकार व अधिकारियों द्वारा सर्वे का कोई आदेश प्रसारित नहीं किया गया। सर्वे करने से व्यापारियों और विभाग के बीच असंतोष भी बढ़ता है। ज्ञापन में कहा है कि इस आदेश को वापस लिया जाना चाहिए। कयोंकि व्यापार मंडी के निर्णय के अनुसार व्यापारी सर्वे नहीं कराएगा और अधिकारी सर्वे करेंगे तो विवाद की स्थिति उत्पन्न होगी। इसलिये व्यापार मंडल का लंबे समय से निर्णय चल रहा है कि हम सर्वे नहीं कराएंगे और इसे वापस लिया जाना चाहिए। ज्ञापन सौंपने और हस्ताक्षर करने वालों में संतोष गुप्ता, पंकज गुप्ता, रामबाबू गुप्ता सहित बड़ी संख्या में व्यापारी मौजूद रहे।

महोबा से अन्य समाचार व लेख

» महोबा-सपाइयो ने एसडीएम को सौपा विभिन्न सूत्रीय ज्ञापन

» महोबा-चरखारी के महलो में बनेगी हॉरर फिल्म

» महोबा-सेवा सप्ताह के तहत नेत्र शिविर एवं चश्मा वितरण कार्यक्रम आयोजित

» महोबा-तहसील दिवस में आयी 56 शिकायतो मे से 4 का मौके पर हुआ निस्तारण

» महोबा-आखिर कब उठेगा व्यापारी इंद्रकांत की मौत से पर्दा

 

नवीन समाचार व लेख

» महोबा-चरखारी के महलो में बनेगी हॉरर फिल्म

» महोबा-व्यापारियों ने सर्वे करने के विरोध को लेकर सौंपा ज्ञापन

» महोबा-सेवा सप्ताह के तहत नेत्र शिविर एवं चश्मा वितरण कार्यक्रम आयोजित

» महोबा-तहसील दिवस में आयी 56 शिकायतो मे से 4 का मौके पर हुआ निस्तारण

» महोबा-आखिर कब उठेगा व्यापारी इंद्रकांत की मौत से पर्दा