यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

महोबा-भगवान इन्द्र पहुंचे गोवर्धन नाथ जू महाराज से क्षमा याचना करने


🗒 शनिवार, नवंबर 21 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
 महोबा-भगवान इन्द्र पहुंचे गोवर्धन नाथ जू महाराज से क्षमा याचना करने



चरखारी/महोबा। सोशल डिस्टेन्स का पालन करते हुये प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी धूम धाम से भगवान की शोभा यात्रा निकाली गई। जिसमें भक्तो के जयकारे के साथ सदर मंदिर से भगवान की शोभायात्रा मेला श्री स्वामी गोवर्धन्नाथ जू मंदिर पहुंची जहां उन्होंने भगवान कृष्ण से क्षमायाचना की जिसके बाद गोर्वधन गिरिधारी गोर्वधन पर्वत उतारते है। यह परम्परा करीब 138 वर्ष पूर्व महराज मलखान सिंह जूदेव के द्वारा शुरू की गई थी जो आज तक बनी हुई है, सदर के गोवर्धन मंदिर से राजा इन्द्र देव जी की सवारी ड्यूड़ी, झण्डा बाजार, गोलाघाट, रावबाग पचराहा होते हुए मेला प्रांगड़ पहुंचते हैं, देशी रियासत के समय जब राजा इन्द्र देव की सवारी जैसे ही रावबाग पैलेस के निकट पहुंचती थी। बैसे ही वहां तैनात सिपाहियों द्वारा सात तौपो की सलामी राजा इन्द्र देव के सम्मान में दी जाती थी, राजा इन्द्र देव जी को रियासत कालीन राज्य आचार्य गुरुदेव के वंशजों के द्वारा निभाई जा रही है, जिसमें पं दीपक गुरुदेव के द्वारा मेला परिसर पहुंच कर पूजा अर्चना की गई। इस मौके पर पालिकाध्यक्ष मूलचंद्र अनुरागी, लेखाकार अयूब खान सहित तमाम पालिका कर्मी मौजूद रहे।

महोबा से अन्य समाचार व लेख

» महोबा-सपी की अध्यक्षता में आयोजित की गयी पुलिस की पाठशाला

» महोबा-पालिकाध्यक्ष ने दिखाई मानवता, सर्दी से कांप रही महिला को ओढ़ाया कंबल

» महोबा-पीएम कृषि सिंचाई योजना अन्नदाताओ के लिए अत्यंत लाभकारी: डीएम

» महोबा-मलिन बस्तियों के बच्चो को शिक्षा से जोड़ने के डीएम ने दिये निर्देश

» महोबा-प्रियांसी मिश्रा बनी एक दिन की चरखारी कोतवाल

 

नवीन समाचार व लेख

» महोबा-भगवान इन्द्र पहुंचे गोवर्धन नाथ जू महाराज से क्षमा याचना करने

» महोबा-पालिकाध्यक्ष ने दिखाई मानवता, सर्दी से कांप रही महिला को ओढ़ाया कंबल

» महोबा-पीएम कृषि सिंचाई योजना अन्नदाताओ के लिए अत्यंत लाभकारी: डीएम

» बांदा -तिहरे हत्याकांड में पन्द्रह नामजद और नौ आरोपी गिरफ्तार छै आरोपी फरार

» बांदा-अरबों की सरकारी जमीन को भू-माफियाओं ने लगाया ठिकाने