फांसी लगा रहे युवक को पीआरवी टीम ने दरबाजा तोड़कर सकुशल बचाया

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

फांसी लगा रहे युवक को पीआरवी टीम ने दरबाजा तोड़कर सकुशल बचाया


🗒 शुक्रवार, जुलाई 09 2021
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
फांसी लगा रहे युवक को पीआरवी टीम ने दरबाजा तोड़कर सकुशल बचाया


महोबा। कहते है जान लेने वाले से बड़ा जान बचाने वाला होता है ऐसा ही वाक्या चरखारी क्षेत्र का सामने आया है। जहां दरवाजा बन्द करके अपनी जीवन लीला समाप्त करने के लिए आतुर युवक को पीआरवी टीम ने तत्परता दिखाकर दरबाजा तोड़कर बाहर निकाला और उसकी जान बचाई। खाकी द्वारा किये गये इस कार्य की सभी ने खूब सराहना की।
पुलिस अधीक्षक सुधा सिंह के निर्देशन में तथा अपर पुलिस अधीक्षक आर0के0 गौतम के सफल पर्यवेक्षण में यू0पी0 112 पुलिस द्वारा लगातार जनपद वासियों को तत्काल सहायता हेतु पुलिस सुविधा प्रदान की जा रही है, जिसके क्रम में थाना चरखारी अन्तर्गत पीआरवी 1260 टीम को श्वेता पुत्री जगदीश कुमार द्वारा सूचना प्राप्त हुयी कि भाई फांसी का फंदा बना आत्महत्या करने की कोशिश कर रहा है कृपया जल्दी पहुंचे। इस सूचना पर पीआरवी- 1260 तत्काल अल्प समय में घटनास्थल पर पहुंची घटनास्थल पर पहुंच कर पीआरवी कर्मियों को जानकारी हुई कि कालर के भाई ने घर में अपने आप को बंद कर लिया है, पीआरवी कर्मियों द्वारा देर न करते हुये तत्काल कमरे का दरवाजा तोड़ा गया व अंदर जाकर देखा कि व्यक्ति फांसी का फंदा बनाकर अपने गले में उस फंदे को डालकर लटकने ही जा रहा था कि पीआरवी कर्मियों ने सूझबूझ से उसे रोंका तथा समझाया और नीचे उतारा जिससे व्यक्ति की जान बच सकी। पीआरवी कर्मियों द्वारा व्यक्ति से ऐसा करने का कारण पूंछा गया तो उसके द्वारा बताया गया कि वह अपनी पत्नी द्वारा झगड़ा करने व मायके से न आने से क्षुब्ध होकर फांसी के फंदे पर लटकने जा रहा था, युवक बाबू सेन पुत्र जगदीश कुमार निवासी शेखन फाटक कस्बा चरखारी को पीआरवी कर्मियों द्वारा समझा-बुझा कर उसको ऐसा न करने की सलाह दी गयी जिससे समय रहते एक अनहोनी होने से बच सकी। पीआरवी द्वारा किये गये इस कार्य की सभी परिजनों/स्थानीय लोगों ने जमकर प्रशंसा की। पीआरवी- 1260 टीम में कमांडर दृ हे0कां0 रामकिशन, सब कमांडर - म0आ0 शकुंतला यादव, म0आ0 कविता यादव, पायलट - भ्ळ अनिरुद्ध सिंह शामिल रहे।