यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

क्रेशर व्यापारी मामले में सेवानिवृत्त एसआई पर दर्ज हुयी भ्रष्टाचार की रिपोर्ट


🗒 रविवार, फरवरी 20 2022
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
क्रेशर व्यापारी मामले में सेवानिवृत्त एसआई पर दर्ज हुयी भ्रष्टाचार की रिपोर्ट

 एसआईटी की रिपोर्ट की संस्तुति के बाद आये से अधिक सम्पत्ति पर दर्ज हुयी रिपोर्ट

महोबा। पत्थर मंडी कबरई के क्रेशर व्यापारी इंद्रकान्त त्रिपाठी मामले में एक और पुलिस कर्मी के उपर कार्यवाही की गाज गिरी है। भ्रष्टाचार के आरोप में तत्कालीन पुलिस उपनिरीक्षक पर कार्यवाही करते हुये आय से अधिक सम्पत्ति की रिपोर्ट दर्ज की गई है। एसआईटी की रिपोर्ट में संस्तुति के बाद ही सेवानिवृत्त एसआई का नाम सामने आया है। भ्रष्टाचार निवारण संगठन झांसी के निरीक्षक ने शहर कोतवाली में सेवानिवृत्त एसआई के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कराया है। क्रेशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी ने सात सितंबर 2020 को तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए सोशल मीडिया में वीडियो वायरल किया था। गोली लगने से 13 सितंबर को उनकी मौत हो गई थी। मामले की जांच एसआईटी ने की। जांच में तत्कालीन एसपी, थानाध्यक्ष कबरई देवेंद्र शुक्ला, व्यापारी सुरेश सोनी व ब्रह्मदत्त को भ्रष्टाचार व आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी माना गया। इनके खिलाफ मामला दर्ज हुआ। एसआईटी की जांच में सिपाही अरुण यादव को भी भ्रष्टाचार का दोषी पाया गया। इसके बाद 24 जनवरी को सिपाही सूरज यादव पर भी मामला दर्ज हुआ। भ्रष्टाचार निवारण संगठन झांसी के निरीक्षक प्रेम कुमार ने शहर कोतवाली में सेवानिवृत्त उपनिरीक्षक सुरेंद्र नारायण द्विवेदी (निवासी ग्राम कंधौली थाना सजेती जनपद कानपुर नगर) के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम का मामला दर्ज कराया है। भ्रष्टाचार के दौरान यह एसआई पुलिस अधीक्षक कार्यालय में वाचर पद पर तैनात था। भ्रष्टाचार निवारण संगठन के निरीक्षक ने बताया कि इंद्रकांत मौत के मामले में एसआईटी की रिपोर्ट में की गई संस्तुति के आधार पर दोषी पुलिस कर्मियों की खुली जांच कराई गई। सेवानिवृत्त एसआई की महोबा में तैनाती के दौरान निर्धारित अवधि में 50 लाख 72 हजार 941 रुपये की आय अर्जित की गई। इस अवधि के दौरान उनकी ओर से 80 लाख 39 हजार 971 रुपये का व्यय पाया गया। आय के सापेक्ष 29 लाख 67 हजार 30 रुपये का अधिक व्यय किया गया। कोतवाली प्रभारी बलराम सिंह का कहना है कि तहरीर के आधार पर मामला दर्ज किया गया है। मामले की विवेचना भ्रष्टाचार निवारण संगठन लखनऊ करेगी।

महोबा से अन्य समाचार व लेख

» उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा घरेलू, किसानों एवं वाणिज्यिक विद्युत उपभोक्ताओं के लिए लाई गई एकमुश्त समाधान योजना अब महोबा CSC सेंटरो के माध्यम से भी शुरू

» महोबा - सी0एस0सी0 ई0 गवर्नेन्स सर्विसेज इण्डिया लि0 एवं न्याय विभाग/राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा संचालित टेली लॉ प्रोजेक्ट का सक्षिप्त विवरण

» पति ने पत्नी की सोते समय कि हत्या

» पूर्व जिपं. सदस्य ने किशोरी से किया दुष्कर्म

» धूम-धाम से मनाई गयी परशुराम जी की जयंति

 

नवीन समाचार व लेख

» भगवान शिव मंदिर का मनाया आठवां वार्षिकोत्सव

» 41 दिवसीय आयोजन की तैयारियां शुरू पार्थिव शिवलिंग निर्माण महोत्सव हेतु किया भूमि पूजन

» चंदोदय मंदिर में आयोजित दंड महोत्सव पानीहाटी दही चिड़ा में उमड़ा जन सैलाब

» बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने 13 देशों के राजदूतों के साथ की बातचीत

» पेड़ से लटका मिला युवक का शव