यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मैनपुरी में सीओ दफ्तर के पास होटल में चल रहा था देह व्यापार का अड्डा, छापा पड़ा तो खुला खेल


🗒 शनिवार, जून 01 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सीओ का दफ्तर और उसके पास होटल। पुलिस को भनक तक नहीं कि होटल में चल क्या रहा है? शिकायत हुई तो छापा मारा। होटल के अंदर चल रहा था गंदा काम। देह व्यापार के इस अड्डे से पुलिस ने युवती को एक ग्राहक के साथ गिरफ्तार किया है। जबकि दो ग्राहक भाग निकले। अड्डा संचालक और युवती को जेल भेजा गया है।मैनपुरी में सीओ सिटी कार्यालय के पास श्रीराम गेस्ट हाउस नाम से होटल है। आए दिन यहां संदिग्ध किस्म की महिलाओं व पुरुषों का आना-जाना लगा रहता था। आसपास के दुकानदार भी यहां की संदिग्ध गतिविधियों की सूचना पुलिस को देते रहे हैं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो पाती थी। शुक्रवार रात करीब साढ़े दस बजे इंस्पेक्टर कोतवाली ओमहरि वाजपेयी अपनी टीम के साथ गश्त पर थे, तभी उन्हें होटल में संदिग्ध महिलाओं व पुरुषों के मौजूद होने की शिकायत मिली। पुलिस को यह बताया गया कि होटल में देह व्यापार का अड्डा चल रहा है। इंस्पेक्टर कोतवाली ने महिला उप निरीक्षक मधु यादव को बुलाने के साथ ही मामले की जानकारी सीओ सिटी अभय नारायण राय को दी। थोड़ी देर में सीओ सिटी भी पहुंच गए। रात करीब डेढ़ बजे पुलिस ने होटल पर छापा मारा तो कमरे की कुंडी बाहर से बंद थी।

मैनपुरी में सीओ दफ्तर के पास होटल में चल रहा था देह व्यापार का अड्डा, छापा पड़ा तो खुला खेल

पुलिसकर्मी कुंडी खोलकर अंदर घुसे तो एक महिला, एक पुरुष आपत्तिजनक स्थिति में थे। पुलिस ने दोनों को हिरासत में ले लिया। पुरुष ने अपना नाम संजीव मिश्रा निवासी ललूपुर कोतवाली मैनपुरी बताया। वहीं युवती भी शहर कोतवाली के एक गांव की निवासी है। युवती ने पूछताछ में स्वीकार किया कि संजीव मिश्रा उसे एक हजार रुपये में लिवा कर लाया था। उसके दो अन्य ग्राहक भी होटल में मौजूद थे। लेकिन पुलिस को देखकर भाग गए है। युवती व संजीव मिश्रा ने फरार दोनों ग्राहकों के नाम पुलिस को बताए हैं। घटना की रिपोर्ट कोतवाली में दर्ज कराई गई है।पुलिस के मुताबिक पकड़े गए संजीव मिश्रा ने पूरे होटल को एक साल के लिए किराए पर लिया था। पहले होटल का नाम कुछ और था। किराए पर लेने के बाद संजीव मिश्रा ने होटल का नाम बदल कर श्रीराम गेस्ट हाउस कर दिया। भले ही होटल के कमरे खाली पड़े रहें, लेकिन यहां ठहरने के लिए आने वाले मुसाफिरों को कमरा देने में संजीव मिश्रा आनाकानी करता था। इसलिए उसकी गतिविधियों पर संदेह हुआ था।देह व्यापार के कई अड्डे शहर में संचालित है। इनमें से कुछ अड्डे होटलों में संचालित हैं तो कुछ आबादी क्षेत्र में है। करीब पांच साल पहले तत्कालीन सीओ सिटी अजीत सिन्हा ने भी शहर के होटल में छापा मारकर एक युवती को पकड़ा था। जबकि उसका पुरुष ग्राहक, पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया था। पुलिस ग्राहक का पता नहीं लगा सकी थी। युवती के खिलाफ कोर्ट में मामला चला था। 

मैनपुरी से अन्य समाचार व लेख

» मैनपुरी में फैली अफवाह, घरों में विराजमान लडडू गोपाल पी रहे हैं दूध

» मैनपुरी में तैनात एआरएम रोडवेज सुबह सुबह रंगे हाथ रिश्‍वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए

» मैनपुरी जिला जेल में बंदी की मौत पर हंगामा, परिजनों ने लगाया जाम

» मैनपुरी में मुठभेड़ में लूट-दुष्कर्म कांड का मुख्य आरोपित गिफ्तार, एक सिपाही घायल

» मैनपुरी सामूहिक दुष्‍कर्म कांड मे थाना प्रभारी और आरक्षी को आइजी ने किया निलंबित

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर के बिधनू मे ग्रामीणों के देखते-देखते नहर में कूद गई महिला

» कानपुर में चौथी मंजिल पर फोन से बात करने गया हेड कांस्टेबिल सुबह नीचे गिरा मिला खून से लथपथ शव

» बबुली कोल गैंग के चंगुल से छूटा व्यापारी

» औरैया में नाली बनाने पर बवाल, पुलिस से भिड़ गईं महिलाएं, एसडीएम ने भागकर बचाई जान

» सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी में जूनियर छात्रों के साथ रैगिंग, मुंडवाए गए सिर के बाल