यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मैनपुरी पुलिस ने 36 घंटे में पकड़े व्यापारी से लूट करने वाले तीन लुटेरे


🗒 बुधवार, मार्च 23 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मैनपुरी पुलिस ने 36 घंटे में पकड़े व्यापारी से लूट करने वाले तीन लुटेरे

मैनपुरी । मैनपुरी में सोमवार रात इंवर्टर व्यवसायी के साथ हुई लूट की घटना का राजफाश कर पुलिस ने 36 घंटे के अंदर तीनों लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया। उनके कब्जे से लूटी गई नकदी और मोबाइल बरामद हुआ है। पकड़े गए बदमाशों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। तीनाें बदमाशों को पुलिस ने जेल भेज दिया है। शहर कोतवाली के झिंझाई निवासी अखिलेश चौहान शहर में शहर में करहल चौराहे के पास दुकान कर इंवर्टर-बैटरी का कारोबार करते हैं। सोमवार रात करीब आठ बजे वे दुकान बंद कर बाइक से घर जा रहे थे।मैनपुरी-करहल मार्ग पर नगला जुला के पास पीछे से आए बाइक सवार तीन बदमाशाें ने तमंचे के बल पर उनकी बाइक रुकवा ली और उनके पास रखी 20 हजार रुपये की नकदी और मोबाइल लूट लिया। घटना के बाद व्यवसायी ने अपनी बाइक से बदमाशों का पीछा भी किया, लेकिन बदमाश गायब हो गए। घटना की रिपोर्ट व्यवसायी ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ दर्ज कराई थी।सीओ सिटी अमर बहादुर ने बताया कि बदमाशों का पता लगाने के लिए एसपी अशाेक कुमार राय ने कोतवाली पुलिस को कड़ी हिदायत दी थी। पुलिस बदमाशों की तलाश में जुटी थी।बुधवार सुबह करीब आठ बजे इंस्पेक्टर कोतवाली अनिल कुमार सिंह और उनकी टीम ने शहर कोतवाली क्षेत्र में मैनपुरी-करहल मार्ग पर चित्रगुप्त डिग्री कालेज के सामने बाइक से जा रहे बदमाशों की घेराबंदी कर पकड़ लिया। तलाशी में उनके कब्जे से लूटी गई नकदी में से साढ़े छह हजार रुपये, मोबाइल, तमंचे बरामद हुए। तीनों बदमाशों को जेल भेज दिया गया है।गिरफ्तार बदमाशों ने अपने नाम आशीष गिहार, विकास गिहार निवासीगण गिहार कालोनी कस्बा करहल, साजन गिहार निवासी गिहार कालोनी नवीन मंडी के सामने शहर मैनपुरी बताया। तीनों बदमाशों का लंबा आपराधिक इतिहास है। उनके खिलाफ अलग-अलग थानों में कई मामले दर्ज हैं। अकेले विकास गिहार के खिलाफ थाना करहल और कोतवाली मैनपुरी में 10 आपराधिक मामले दर्ज हैं।बदमाशाें का पता लगाने के लिए पुलिस ने सीसीटीवी का सहारा लिया था। इसके लिए शहर में करहल चौराहे से लेकर करहल की ओर जाने वाले सभी सीसीटीवी खंगाले गए थे। इसी आधार पर बदमाशों की पहचान हुई थी। सर्विलांस के जरिए भी बदमाशों के सुराग मिले थे। पीड़ित इंवर्टर व्यवसायी ने भी कोतवाली पहुंच कर पकड़े गए बदमाशाें की पहचान की है।