मथुरा के बरसाना के ग्राम संकेत में संविदा कर्मी ने गोली मारकर दी जान

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मथुरा के बरसाना के ग्राम संकेत में संविदा कर्मी ने गोली मारकर दी जान


🗒 गुरुवार, मई 30 2019
🖋 विजय सिंघल, दैनिक ब्यूरो चीफ मथुरा

ब्यूरो चीफ विजय सिंघल

मथुरा के बरसाना के ग्राम संकेत में संविदा कर्मी ने गोली मारकर दी जान

मथुरा के बरसाना में गांव संकेत में सीएमओ कार्यालय में संविदा पर तैनात कंप्यूटर ऑपरेटर ने गोली मारकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। पुलिस के मौके पर पहुंचने से पहले ग्रामीणों ने मृतक का अंतिम संस्कार कर दिया। बताया जा रहा है कि मृतक ने यह कदम तनाव में उठाया है। बुधवार सुबह सात बजे के करीब संकेत निवासी 32 वर्षीय मानसिंह ने घर में रखे अवैध तमंचे से खुद को पेट में गोली मार ली। परिवार वाले उपचार के लिए मथुरा लेकर आ रहे थे, लेकिन रास्ते में ही मानसिंह ने दम तोड़ दिया। पुलिस के पहुंचने से पहले ही ग्रामीणों ने मृतक का अंतिम संस्कार कर दिया। घटना के बाद पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुट गई। प्रभारी निरीक्षक वीरेंद्र सिंह ने बताया कि संकेत गांव के युवक ने खुद को गोली मारकर जान दे दी है। पुलिस के पहुंचने से पहले ही ग्रामीणों ने मृतक अंतिम संस्कार कर दिया था। घटना की जांच की जा रही है।मृतक था तनाव में बरसाना में मृतक के बड़े भाई बुद्धा का आरोप है कि स्वास्थ्य विभाग ने दस माह से वेतन नहीं दिया था। इस कारण वह आर्थिक तंगी से गुजर रहा था। स्टाफ भी उसका शोषण कर रहा था। इस कारण वह तनाव में था। जबकि कंट्रोल रूम प्रभारी डॉ. प्रवीण भारती का कहना है कि वेतन रुकने का मामला संज्ञान में नही हैं। सभी का वेतन दिया जा रहा है। ग्रामीणों ने पुलिस से भी की धक्का-मुक्की की बरसाना में युवक के खुदकशी करने की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच गई थी, लेकिन ग्रामीणों ने दाह संस्कार करना शुरू कर दिया। पुलिस के दाह संस्कार रोककर कानूनी प्रक्रिया पूरी करने का दबाव बनाने पर ग्रामीणों ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की कर दी। सीओ गोवर्धन कैलाशचंद्र पांडेय, थाना प्रभारी निरीक्षक वीरेंद्र सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए, लेकिन तब तक ग्रामीणों ने शव का दाह संस्कार कर दिया। पुलिस को बिना सूचना दिए मृतक का अंतिम संस्कार करने के आरोप में पूछताछ के लिए आधा दर्जन ग्रामीणों को हिरासत में ले लिया है।

मथुरा से अन्य समाचार व लेख

» मथुरा के गांव सकना की दयनीय स्थिति, बीस साल से ऊबड़ खाबड़ खरंजों पर ठोकर खा रहे ग्रामीण

» चार दशक से वृन्दावन में रह रहे पाकिस्तानियों को अब मिलेगी भारतीय नागरिकता

» बांके बिहारी जी के दर्शन कर मनाया मकर संक्रांति का त्यौहार

» विश्व वैष्णव सेवा संघ द्वारा किया गया कंबल का वितरण

» उत्कृष्ट काम करने के लिए दीक्षित इंश्योरेंस सर्विसेज को सम्मानित