यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मथुरा कान्हा की नगरी में एकादशी पर ठाकुर द्वारिकाधीश के दर्शन पाकर निहाल हुए भक्त


🗒 शुक्रवार, मई 31 2019
🖋 विजय सिंघल, दैनिक ब्यूरो चीफ मथुरा

ब्यूरो  चीफ विजय सिंघल

मथुरा कान्हा की नगरी में  एकादशी पर ठाकुर द्वारिकाधीश के दर्शन पाकर निहाल हुए भक्त

मथुरा कान्हा की नगरी द्वारकाधीश में ज्येष्ठ माह की अपरा एकादशी पर मथुरा नगरी के मंदिरों में धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। ठाकुर द्वारिकाधीश मंदिर में सुबह से ही धार्मिक आयोजन हुए। सुबह ठाकुरजी को आकर्षक पोशाक धारण कराई गई। अपने आराध्य ठाकुर द्वारिकाधीश के दर्शन पाकर भक्त भी निहाल हुए। मंदिर प्रांगण ठाकुरजी के जयकारों से गुंजायमान हो गया आचार्य श्याम चतुर्वेदी ने बताया कि अपरा एकादशी के व्रत का फल बहुत है। जो शिष्य गुरु से शिक्षा ग्रहण करते हैं फिर भी उनकी निंदा करते हैं वे अवश्य नरक में पड़ते हैं। मगर अपरा एकादशी का व्रत करने से वह भी सभी पाप से मुक्त हो जाते हैं।  जो फल तीनों पुष्कर में कार्तिक पूर्णिमा को स्नान करने से या गंगा तट पर पितरों को पिंडदान करने से प्राप्त होता है, वही अपरा एकादशी का व्रत करने से प्राप्त होता है। यह व्रत पापरूपी वृक्ष को काटने के लिए कुल्हाड़ी है। पापरूपी ईंधन को जलाने के लिए अग्नि, पापरूपी अंधकार को मिटाने के लिए सूर्य के समान, मृगों को मारने के लिए सिंह के समान है। अत: मनुष्य को पापों से डरते हुए इस व्रत को अवश्य करना चाहिए। अपरा एकादशी का व्रत तथा भगवान का पूजन करने से मनुष्य सब पापों से छूटकर विष्णु लोक को जाता है।

मथुरा से अन्य समाचार व लेख

» मथुरा डीएम,एसएसपी,एसपी सिटी ने ईदगाह में लोगो को दी बकरीद की मुबारक

» वृन्दावन कोतवाली प्रभारी को एस एस पी ने प्रशत्ति पत्र दे कर सम्मानित किया

» पुलिस की कार्यशैली की स्थानीय लोगो ने पूरी की प्रसंशा

» छटीकरा में दो महिला फिरने के बहाने एक महिला को राल ले जाकर की मारपीट

» सुविधाओं के अभाव में खेल प्रतिभा कभी दम नहीं तोड़ती : ठाकुर विष्णु पहलवान

 

नवीन समाचार व लेख

» उप मुख्यमंत्री ने बाबा विश्वनाथ के दरबार में टेका मत्था, सबके कल्याण की मंगल कामना की

» भाजयुमो ने बेलखरनाथ धाम पर लगाया पार्टी सदस्यता शिविर

» सावन के अंतिम सोमवार को शिव मंदिर बाबा बेलखरनाथ में हुए जलाभिषेक

» अमित शाह के पत्र में 'गोरखालैंड' शब्द के इस्तेमाल पर छिड़ा विवाद

» उन्नाव मे बूढ़ी मां को तब तक बेरहमी से पीटता रहा जब तक नहीं हो गई मौत