यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मथुरा के गोवर्धन में गीतांजलि शर्मा ने राधा बनना शुरू किया तो कृष्ण से लग गई लगन


🗒 रविवार, जून 02 2019
🖋 विजय सिंघल, दैनिक ब्यूरो चीफ मथुरा

ब्यूरो चीफ विजय सिंघल

मथुरा के गोवर्धन में गीतांजलि शर्मा ने राधा बनना शुरू किया तो कृष्ण से लग गई  लगन

मथुरा के गोवर्धन में गीतांजलि शर्मा ब्रज की एक ऐसी कलाकार, जिनकी नृत्य कला में ऊर्जा और आध्यात्म का समावेश है। उन्हें ब्रज की राधा भी कहा जाता है। उन्होंने अपने जीवन में नृत्य और मयूर रास को बढ़ाने के लिए काफी मेहनत की है। वह पहली ऐसी कलाकार हैं। जिन्होंने लोगों की छोटी सोच की मानसिकता को तोड़ते हुए ब्रज के रास और लोक कला को देश और विदेश में स्थापित कराया है। तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी,  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, योगी आदित्यनाथ, शिवराज सिंह चैहान, अखिलेश यादव आदि के सम्मुख अपनी कला का प्रदर्शन कर चुकी गीतांजलि खजुराहो महोत्सव, लखनऊ महोत्सव और ताज महोत्सव का भी अभिन्न हिस्सा बनी हैं। गीतांजलि शर्मा भारत के साथ-साथ कई विदेश में भी अपनी कला का प्रदर्शन कर चुकी हैं। इनमें से कुछ देश यूके, मैक्सिको और चीन प्रमुख हैं। छोटी सी उम्र में ही गीतांजलि को कई अवार्डों से नवाजा गया है, जिनमें प्रमुख रूप से उत्तर प्रदेश का प्रमुख सरकारी सम्मान यश भारती सम्मान भी हैं। संगीत नाटक अकादमी सम्मानध् उस्ताद विस्मिल्ला खान अवार्ड, भारत सरकार के नेशनल यूथ अवार्ड, नाजीन ए ताज अवार्ड, मिस यूपी टेलेंट अवार्ड भी उनकी झोली में हैं। समाज सेवा में जुटी गीतांजलि इन दिनों मथुरा में केंद्र सरकार के स्वच्छ भारत अभियान की ब्राण्ड अंबेसडर हैं, तथा हाल ही में गीतांजलि शर्मा ने वाराणसी के अस्सी घाट पर फ्रान्स के राष्ट्रपति और देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के समक्ष ब्रज की संस्कृति को प्रस्तुत किया था। गोवर्धन में ब्रजलोक रंग महोत्सव में पहुंची यश भारती पुरस्कार से सम्मानित एवं मथुरा नगर निगम स्वच्छता अभियान की ब्रांड एम्बेसडर कलाकार गीताजंलि शर्मा ने कहा कि जब एक दौर था जब नृत्य व गायन से लड़कियों को दूर रखते थे सिर्फ देखने तक सीमित था। लेकिन आज खुशी मिल रही है कि उनसे प्रेरित होकर मंच पर ब्रज की बेटियां नाम रोशन कर रही हैं। उनको शुरूआत में इस क्षेत्र में खींचतान और विरोध का सामना करना पड़ा था। लेकिन इसी विरोध को उन्होंने आगे बढ़ने का जरिया बना लिया। उस समय टीवी, इंटरनेट नहीं था सिर्फ राधा-कृष्ण की रासलीला मंचन से सब कुछ सीखा है। कल्पनाओं को मन जीकर स्टेज पर जीना सीख लिया।  वे इटली से लेकर, जापान, फ्रांस व अन्य देशों में ब्रज की संस्कृति का परिचम लहराया है।

मथुरा से अन्य समाचार व लेख

» मथुरा में प्रस्तावित दौरे को लेकर पीएम आगमन से पूर्व सुरक्षा का घेरा, धरती से आकाश तक होगा चप्‍पे- चप्‍पे पर पहरा

» मथुरा मे नहीं हुई सुनवाई तो तीन तलाक पीड़िता की मां ने खा लिया जहर

» छटीकरा से विवाहिता गायब

» भूपेंद्र मिश्रा को बनाया उत्तर प्रदेश कबड्डी का टेक्निकल ऑफिसर

» वृन्दावन चंद्रोदय मंदिर में हुआ पांच हजार फलदार पौधों का वितरण

 

नवीन समाचार व लेख

» वाराणसी के लाल बहादुर शास्‍त्री इंटरनेशनल एयरपोर्ट बाबतपुर पर आपात लैंडिंग

» छात्रा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर लगाया दुष्कर्म का आरोप

» गृहमंत्री अमित शाह ने 100 दिन पूरे होने पर गिनाई मोदी सरकार की उपलब्धियां, कहा- पीएम बने विकास के पर्याय

» फतेहपुर जंगल में प्रेमी युगल ने खाया जहर, प्रेमिका ने दर्ज कराया था दुष्कर्म का मुकदमा

» अलीगढ मे चार दिन से लापता किशोरी की हत्या कर शव घर के सामने फेंका