यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

गुरूवाणी के रूप में स्वंय परमात्मा दिखाते हैं राह : देवकीनंदन महाराज


🗒 मंगलवार, जुलाई 16 2019
🖋 रविकान्त, ब्यूरो प्रमुख मथुरा

मथुरा। प्रियाकान्तजू मंदिर पर हजारों शिष्यों ने देवकींनदन महाराज का पूजन कर व्यास पूर्णिमा मनाई । प्रातः 8 बजे से ही शांति सेवा धाम के बाहर से ही शिष्यों की लम्बी कतारें लगी हुई थीं । उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार और देश के अन्य प्रदेशों से बड़ी संख्या में शिष्यगण प्रियाकान्तजू मंदिर पहुॅचे हैं । हाथों में पुष्प-माल लिये शिष्यों ने चरण-पादुका पूजन कर प्राचीन गुरू-शिष्य परम्परा का निर्वहन किया। दोपहर 2.30 बजे तक गुरूपूजन का कार्य चलता रहा ।

गुरूवाणी के रूप में स्वंय परमात्मा दिखाते हैं राह : देवकीनंदन महाराज

आशीर्वचन करते हुये देवकीनंदन महाराज ने कहा अपनी शरणागत का हर कोई भला चाहता है । जब शिष्य अपना मार्गदर्शन चाहता है तो तब स्वंय परमात्मा गुरूवाणी के रूप में उसे राह दिखाते हैं । यह गुरू की महानता नहीं है । यह शिष्यों की श्रद्धा की महानता है । गुरू के प्रति शिष्यों की श्रद्धा और बालाग्रह ही गुरू को महान बनाते हैं । गुरू के समक्ष शरणागत होकर जाना चाहिये । गुरू के वचनों को सुनकर उनका पालन करना चाहिये ।
गुरू महत्व बताते हुये उन्होने कहा कि गुरू ही हैं जो हमें अंहकार, ईष्या और मोह के अंधकार से ज्ञान की ओर ले जाते हैं । जब हमारे हदृय में गुरू और भगवान का वास हो जाता है तो कटुता और अन्य दुर्गुणों के लिये स्थान ही नहीं बचता। जब आपके हृदय में परोपकारी विचारों का आगमन होने लग तो समझ जाना कि आपको भगवान की कृपा का सानिध्य प्राप्त होने लगा है । जो परोपकारी है, दूसरों के दुख से द्रवित होकर उनके भले के लिये प्रयास करता है, वह भगवान का सबसे ज्यादा प्रिय है ।
इस अवसर पर एचपी अग्रवाल, जे.पी. सिंघल, सतीश गर्ग, डा0 यूपी सिंह, रवि रावत, श्यामसुन्दर शर्मा, श्रीपाल जिंदल, बिजेन्द्र सोनी, शेराराम भादु, सुरेश जांगिड़, अजय, बनवारी, धमेन्द्र, अमित आदि उपस्थित थे।

मथुरा से अन्य समाचार व लेख

» ब्रज यातायात एवं पर्यावरण जनजागरूकता समिति उत्तर प्रदेश ने आरो के पानी की प्याऊ लगाई

» भूमि अधिग्रहण को लेकर आवास विकास परिषद के खिलाफ किसानों ने भरी हुंकार

» खाते में रोक लगने की वजह से नहीं हो पा रहा है ग्राम पंचायत आटस बांगर का विकास

» गुजरात की घटना के बाद प्राकृतिक आपदा के साथ किसी भी अप्रिय घटना के लिए नन्हे-मुन्ने बच्चों को दिया गया प्रशिक्षण

» मुड़िया पूनो मेला गोवर्धन को जाने के लिए यातायात व्यवस्था के लिए प्रशासन ने बनाया प्लान