यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

दिल्ली रेल मार्ग पर बड़ा हादसा टला 9 गोवंश की मौत।


🗒 सोमवार, अक्टूबर 26 2020
🖋 आशीष तिवारी, जिला संवाददाता मथुरा
दिल्ली रेल मार्ग पर बड़ा हादसा टला 9 गोवंश की मौत।

चौमुहां। रविवार को कान्हा की कृपा से मथुरा में बड़ा हादसा होने से बच गया , रेल मार्ग पर ट्रेन की चपेट में आने से 9 गायों की मौके पर मृत्यु हो गयी। गनीमत रही कि इंजन के आगे एक साथ गाय फसी नहीं वरना .. । रेल के डिब्बों से टकराकर दूर गिरी गायों ने मोके पर दम तोड़ दिया। रेल गुजर जाने के बाद भीभत्स दृश्य देखकर लोगों के रौंगटे खड़े हो गए।जनपद में में बड़ी संख्या में स्थाई ,अस्थाई गौशाला होने के बावजूद भी सड़कों पर घूम रहे बेसहारा गोवंश कभी सड़क दुर्घटना तो कभी रेल दुर्घटना का शिकार होकर अपना दम तोड़ रहे हैं। जिला प्रशासन का इन बेसहारा घूमने वाले गौवंशों की ओर कोई ध्यान नहीं है। जिसके चलते आए दिन गोवंश दुर्घटना का शिकार होकर तड़प-तड़प कर अपना दम तोड़ रहे हैं । गोशालाओं को मिलने वाले अनुदान और दान को अधिकांश गौशाला संचालक प्रशासन की मिलीभगत से हजम कर रहे हैं। जिसके चलते गौवंशों की ये दुर्दशा हो रही है। जानकारों का कहना था की इतनी भारी संख्या में ट्रेन से चपेट में आए गौवंशों से ट्रेन डिरेल हो सकती थी जिससे इससे भी बड़ा हादसा हो सकता था ।
रविवार की सुबह करीब आठ बजे वृंदावन कोतवाली इलाके में जैत छटीकरा के बीच दिल्ली – आगरा रेलवे ट्रैक पर खम्बा नम्बर 1408/3 और 1411/3 के बीच एक दर्जन गोवंश ट्रेन की चपेट में आ गए। चपेट में आने से 9 गायों की दर्दनाक मौत हो गई जबकि तीन गोवंश घायल हो गए जिनका इलाज चल रहा है। मौके पर पहुचीं जैत पुलिस ने भारतीय गौसेवा समिति के कार्यकर्ताओं के साथ सभी गौवंशों को रेलवे ट्रेक से हटवाकर उनका अंतिम संस्कार कराया। घायल हुए गौवंशों को इलाज के लिए एम्बुलेंस की मदद से अस्पताल भेज दिया।भारती गौसेवा समिति के अध्यक्ष नवीन प्रपन्नाचार्य का कहना था कि योगी सरकार के लाख प्रयासों के बाद भी गौशाला संचालक अपना कर्तव्य नहीं निभा पा रहे । जिले में बड़ी संख्या में स्थाई और अस्थाई गौशाला संचालित की जा रही हैं। लेकिन फिर भी सड़कों पर बड़ी संख्या में गोवंश घूमते हुए दिखाई दे जाएंगे। सरकार की तरफ से बेसहारा गोवंशओं के लिए विशेष अनुदान दिया जा रहा है। उस अनुदान में भी प्रशासन और गौशाला संचालक धांधली कर रहे हैं । बेसहारा गोवंश को गौशालाओं के अंदर नहीं रखा जा रहा । इतना ही नहीं कभी कभी इन बेसहारा गोवंश के रोड़ पर उत्पात मचाने से लोगों की जान तक पर भी बन आती है । गौवंशों की ट्रेन हादसे में हुई मौत की सूचना पर वृंदावन कोतवाली प्रभारी अनुज कुमार, जैत चौकी प्रभारी अरविंद कुमार पुलिस फोर्स के साथ घटना स्थल पर पहुँच गए। पुलिस ने भारतीय गौसेवा समिति के सोनू ठाकुर,योगेश ठाकुर ,राहुल ठाकुर, राजेश राघव, लाला गौतम, पप्पू गोला, सोनू त्यागी और पदम् शर्मा की मदद से सभी गौवंशों को रेलवे ट्रेक से हटवाकर गहरे गड्ड में दबवा दिया।

मथुरा से अन्य समाचार व लेख

» अक्षयपात्र परिसर में हुई लूट के मामले में खूब दौड़ रही पुलिस मगर लुटेरे नहीं लग पा रहे हाथ

» क्षेत्रीय सहकारी समिति छटीकरा पर मेहनती सचिव के तबादले से किसानों में आक्रोश, भाजपा नेता ने भेजा एआर को पत्र

» सीएचसी चौमुहां का हुआ कायाकल्प पियर असेसमेंट

» रिश्तेदारी में गुंडई करने वालों को तलाश रही पुलिस

» मथुरा से सैकड़ो गाड़ियों से हजारों किसान पहुंचेंगे इमलिया