यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सिगरेट के फेंके गए इन टुकड़ों के अपक्षय में लग जाते हैं 400 साल : ज्योति बाबा


🗒 बुधवार, सितंबर 15 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सिगरेट के फेंके गए इन टुकड़ों के अपक्षय में लग जाते हैं 400 साल : ज्योति बाबा

रविकान्त तोमर
कानपुर l विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार जैसे माचिस की एक तीली संपूर्ण दुनिया को स्वाहा करने की ताकत रखती है उसी तरह बहुत सूक्ष्म मात्रा की गंदगी भी महामारी फैला सकती है उदाहरण के लिए 1 ग्राम मल में एक करोड़ विषाणु हो सकते हैं 1000000 जीवाणु हो सकते हैं 1000 परजीवी हो सकते हैं और शॉ परजीवो के अंडे हो सकते हैं उपरोक्त बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में राष्ट्रीय युवा हिंदू वाहिनी नीतू शर्मा के सहयोग से नशा हटाओ कोरोना मिटाओ बचपन बचाओ पेड़ लगाओ अभियान के तहत स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत अभियान के अंतर्गत यशोदा नगर में आयोजित ई संगोष्ठी शीर्षक क्या हमारे जीवन में साफ-सफाई सिर्फ दीपावली की त्योहारी परंपरा ही होकर रह गई है पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कहीं ज्योति बाबा ने आगे कहा की कूड़े के रूप में दुनिया में सालाना 4.5 ट्रिलियन से काफी ज्यादा सिगरेट के पुछल्ले फेंके जाते हैं जिनके अपक्षय में 5 साल से लेकर 400 साल तक लग जाते हैं,ज्योति बाबा ने जोर देकर कहा कि भारतीय संस्कृत में स्वच्छता पवित्रता और शुद्धता का विशेष स्थान रहा है जहां स्वच्छता है वहीं स्वास्थ्य है जहां यह दोनों गुण मौजूद हैं संपन्नता यानी लक्ष्मी जी वही विराजते हैं कालांतर में हम व्यक्तिगत सफाई के प्रति तो रहें सचेत लेकिन सामाजिक स्वच्छता से अनमने दिखने लगे इसी भाव को जगाने के लिए कभी महात्मा गांधी को तो वर्तमान में प्रधानमंत्री मोदी जी को स्वच्छ भारत का अभियान चलाना पड़ा है,राष्ट्रीय युवा हिंदू वाहिनी प्रदेश अध्यक्ष नीतू शर्मा ने कहा की लीला यह है की व्यक्तिगत साफ सफाई के मामले में भी हम पर्व त्योहारों की बाट जोहते हैं दीपोत्सव पर्व आने को है लिहाजा सभी भारतीय घरों में मकड़ी के जालों को साफ किया जाना शुरू हो गया है लेकिन इससे क्या देश में चलाया जा रहा स्वच्छता अभियान सफल हो पाएगा,राष्ट्रीय संरक्षक डॉक्टर आर पी भसीन ने कहा कि आइए देश में स्वच्छता की संस्कृत को विकसित करने के लिए पहले खुद में इसे आत्मसात करें और पावन पर्व पर स्वच्छता की लौ प्रज्वलित करने का संकल्प लें l अंत में सभी को स्वच्छता की शपथ योग गुरु ज्योति बाबा ने दिलाई l संगोष्ठी का संचालन राष्ट्रीय समन्वयक हरदीप सिंह सहगल व धन्यवाद समाजसेवी दीपक सोनकर ने दिया l अन्य प्रमुख नवीन गुप्ता,रोहित कुमार,संगीता तिवारी,अनीता पांडे संगीता मौर्य इत्यादि थी।